संवाद सहयोगी, अमृतसर :

पंजाब सरकार की ओर से चलाई जा रही जन कल्याण स्कीमों को असरदार ढंग से लागू करने और योजनाओं का लाभ योग्य लोगों तक पहुंचाने के लिए खुशहाली के रक्षक पंजाब सरकार के आंख व कान बन कर काम कर रहे हैं। इसके तहत अब खुशहाली के रक्षक किसानों को पराली को आग न लगाने संबंधी भी गांव-गांव जाकर जागरूक करेंगे। यह जानकारी डीसी गुरप्रीत सिंह खैहरा ने जीओजी के तहसील प्रमुखों के साथ बैठक में दी।

खैहरा ने कहा कि जीओजी का सीधा संबंध गांवों में किसानों के साथ है। इनकी ओर से किसानों को पराली की आग से पैदा हुए धुएं के बुरे प्रभाव के बारे किसानों को बताया जाएगा।

जिले में जीरो बर्निंग के लक्ष्य को लेकर खेतीबाड़ी तथा किसान कल्याण विभाग नोडल विभाग की भूमिका निभा रहे है। इनके साथ संबंधित विभाग बिजली, सहकारिता, प्रदूषण व माल विभाग को भी शामिल किया गया है। खैहरा ने कहा कि जिले में करीब 298 खुशहाली के रक्षक काम कर रहे हैं। इनका मुख्य मकसद सरकार की ओर से दी जाने वाली सुविधाओं का ही भी दुरुपयोग न हो तथा इनका लाभ जरूरतदों व सही हाथों में पहुंचे। उन्होंने अधिकारियों को हिदायत की है कि जीओजी की ओर से प्राप्त रिपोर्ट पर तुरंत कार्रवाई की जाए। जीओजी के जिला मुखी कर्नल सरपिदर सिंह संधू, कर्नल इकबाल सिंह, कर्नल गुरमुख सिंह, कर्नल बीएस बाजवा, कर्नल कुलदीप सिंह, मेजर हुंदल आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran