जागरण संवाददाता, अमृतसर

अमृतसर जिले में पीली कुंगी ने गेहूं की फसल में कुछ क्षेत्रों में हमला र दिया है। इस के चलते किसानों में परेशानी बढ़ गई है। किसानों के रोष को मुख्य रखते हुए जिला मुख्य कृषि अधिकारी डॉ. दलबील सिंह छीना ने अपनी टीम के साथ जिले के अलग अलग ब्लाकों वेरका, हर्षाछीना, अजनाला, चौंगावां आदि का दौरा करके वहां किसानों की फसल का जायजा लिया है। छीना ने बताया कि अभी तक फसल की हालत काफी बढि़या चल रही थी। परंतु गत दिनों रात्रि का तापमान अचानक कम होने के कारण व दिन में बादल छाय रहने के कारण कुछ क्षेत्रों में पीली कुंगी गेहूं की फसल पर दिखाई देने लग पड़ी है। पीली कुंगी का हमला कुछ क्षेत्रों में किसानों की फसल पर हुआ है। इस के तहत गेहूं के पत्तों पर पीले रंग के धब्बे और लंबी धारियां दिखाई देने लग पड़ती है। यहां तक के फसल के पत्तों पर पीले हल्दी रंग का पाउडर जमा हो जाता है। यही लक्षण दिखाई देते है तो स्पष्ट है कि यह पीली कुंगी का हमला है। इस लिए किसानों को कृषि माहिरों के साथ मिल कर आवश्यक दवाओं को स्प्रे फसल पर किया जाए।

डॉ. छीना ने कहा कि इस बीमारी की रोकथाम के लिए विशेषज्ञों की सलाह पर दवा का छिड़काव करना चाहिए। प्रथम चरन में उसी फसल पर स्प्रे की जाए यहां पर हमला हुआ है। जरूरत पड़ने पर दोबारा भी इस का छिड़काव किया जा सकता है। अब तापमान लगातार बढ रहा है। जिस के चलते यह बीमारी बढ़ने के अधिक आसार नहीं है। उन्होंने कहा कि प्रभावित फसल वाले किसान तुरंत समाधान के लिए अपने अपने क्षेत्र के कृषि अधिकारियों के साथ संपर्क करें। इस अवसर पर उनके साथ कृषि अधिकारी डॉ. मस्तिदर , डॉ. चरणजीव लाल, डॉ. गुरप्रीत सिंह , डॉ. बलविदर सिंह, डॉ. परमजहीत सिंह आदि भी मौजूद थे।

Posted By: Jagran