जागरण संवाददाता, अमृतसर : उत्तर रेलवे कर्मचारी यूनियन की ओर से पाखंड दिवस मनाने के बाद अब नॉर्दर्न रेलवे मेन्स यूनियन (एनआरएमयू) ने भी कमर कस ली है और कर्मियों के हक में किए कामों का ब्यौरा देकर वोटों के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसी क्रम में एनआरएमयू ने हंगामी रैली की जिसमें साफ कर दिया है कि अगस्त में होने वाले चुनाव में वह 12 साल के बाद फिर से इतिहास दोहराने वाले है क्योंकि एनआरएमयू ही एक ऐसी यूनियन है जो न केवल कर्मियों के हक में आवाज बुलंद करती आई है बल्कि जरूरत पड़ने पर शहादत भी देती आई है। एनआरएमयू इंजीनियरिग ब्रांच के सचिव ईश देवगन ने कहा कि 2007 में पहली बार ट्रेड यूनियन के चुनाव हुए थे। इनमें एनआरएमयू ने विरोधी यूनियनों का पूरी तरह से सफाया कर दिया था। इस बार वह वहीं पुराना इतिहास दोहराने वाले हैं और केवल एनआरएमयू ही मान्यता हासिल करेगी। ईश देवगन ने कहा कि पुरानी पेंशन स्कीम को लागू करवाने के लिए एनआरएमयू ही आवाज बुलंद करती आई है। मौके पर राजेश, विवेक महाजन मौजूद थे।

Posted By: Jagran