जागरण संवाददाता, अमृतसर: पिछले करीब दो साल से बंद पड़ा वल्ला सब्जी मंडी ओवर ब्रिज काम अब जल्द शुरू हो पाएगा। इस संबंधी भारतीय सेना की ओर से नगर सुधार ट्रस्ट को एनओसी जारी कर दी गई है। इस बात की जानकारी ट्रस्ट के चेयरमैन दमनदीप सिंह उप्पल ने दी। इस पुल का काम दिसंबर 2019 से बंद पड़ा था। क्योंकि सब्जी मंडी के साथ आर्मी एरिया है। जहां पर आर्मी का हथियारों का ढंप है। ऐसे में आर्मी की ओर से पुल का काम बंद करवा दिया था। मगर चेयरमैन उप्पल के प्रयासों के साथ भारतीय सेना की ओर से एनओसी जारी कर दी है।

चेयरमैन उप्पल ने बताया कि जिस दिन उन्होंने ज्वाइन किया तो उसके कुछ ही दिन बाद वह वल्ला मंडी का दौरा करने गए। इस दौरान उन्होंने देखा कि पुल का काम रुका हुआ था और वहां पर वाहनों का जाम लग रहा था। उसी समय एक रेहड़ा वहां से गुजर रहा था। जिसके आगे एक घोड़ा था। घोड़े का पैर एक गड्डे में पड़ा और उसका बैलेंस बिगड़ गया। इससे रेहड़ा पीछे की तरफ पलट गया और घोड़े के गले में डाली हुई नाल से घोड़ा भी बुरी तरह से जख्मी हो गया। यह पूरा सीन देखकर उन्हें बहुत दुख हुआ। इसके तुरंत बाद उन्होंने अधिकारियों की मीटिग बुलाई और पुल संबंधी सारी जानकारी हासिल की। फिर वह लगातार आर्मी से एनओसी लेने में जुट गए और रोजाना इसका फालोअप भी करते रहे। जिसका नतीजा है कि आज एनओसी मिल गई है और एक-दो दिन में काम शुरु हो जाएगा। उनकी पूरी कोशिश है कि इस पुल को बनाकर दिसंबर महीने तक आम जन को समर्पित कर दिया जाए। 66 करोड़ रुपये है कुल पुल की लागत:

चेयरमैन दमनदीप उप्पल ने बताया कि 2019 में जब पुल का काम शुरु हुआ था तो पूरे प्रोजेक्ट की लागत 66 करोड़ रुपये थे। पुल के एक तरफ 80 प्रतिशत काम हो चुका है। दूसरी तरफ आर्मी ने काम रुकवा दिया था। इसलिए केवल बीस प्रतिशत ही काम ही दूसरी साइड पर हो पाया था। अब दो साल बाद काम फिर से शुरू होना है। ऐसे में लागत में भी थोड़ी बढ़ौतरी हो सकती है। वल्ला पुल के निर्माण की एनओसी मिलने पर एसोसिएशन में खुशी

वहीं आल फ्रूट एंड वेजिटेबल ट्रेडर्स एसोसिएशन सब्जी मंडी वल्ला के अध्यक्ष परविदर सिंह, महासचिव सुरिदर बिद्रा ने भाजपा राष्ट्रीय महासचिव तरुण चुग द्वारा रक्षा मंत्रालय से रेलवे ओवर ब्रिज वल्ला के निर्माण की एनओसी दिलवाने में सहयोग देने पर धन्यवाद किया। एनओसी और वल्ला आयुध भंडार के 1000 गज के घेरे में निर्माण करने पर लगी पाबंदी को घटाकर 350 गज करने के संबंध में रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट से एसोसिएशन के शिष्टमंडल ने मुलाकात की थी। इसमें तरुण चुग ने अहम भूमिका निभाई थी। वह तरुण चुग का आभार प्रकट करते हैं। उन्होंने केंद्रीय राज्य मंत्री अजय भट्ट से मांग की है कि वल्ला आयुध भंडार के एक हजार गज के घेरे के निर्माण पर लगे प्रतिबंध को कम कर 350 गज करवाया जाए।

Edited By: Jagran