जासं, अमृतसर : आवारा कुत्तों की नसबंदी और बेसहारा पशुओं के लिए बन रहे रैन बसेरा के प्रोजेक्ट का जायजा लेने के लिए बुधवार को विधानसभा कमेटी ने नगर निगम दफ्तर में पहुंच कर अधिकारियों के साथ बैठक करने थी। यह बैठक नगर निगम दफ्तर में तीसरी मंजिल पर बने हाल में रखी गई थी। वहीं पर एक तरफ प्रधानमंत्री आवास योजना ब्रांच का भी दफ्तर है। ऐसे में मीटिग करने आए विधायकों और अधिकारियों के लिए चाय-नाश्ते का इंतजाम किया गया था। इसके लिए प्रधानमंत्री आवास योजना ब्रांच को जाने वाले रास्ते को दो बांस का क्रास लगाकर बंद कर दिया गया। बुजुर्ग सुबह से लेकर दोपहर तक जमीन पर बैठे इंतजार करते रहे। अधिकारियों के चाय-नाश्ते में किसी भी तरह की परेशानी न हो।

2016 से लगातार धक्के खा रहे लोग

छेहरटा निवासी मंजीत कौर, मकबूलपुरा निवासी बलकार सिंह, नारायणगढ़ निवासी कश्मीर सिंह, वेरका निवासी तरलोचन सिंह ने बताया कि उनके घरों की छतें लकड़ी के बाले डालकर बनी हुई है। सरकार की स्कीम के तहत उन्होंने पक्का लेंटर डालने के लिए आवेदन किया था। पहले तो लगातार दफ्तरों में धक्के खाने पड़ रहे हैं। आज भी सुबह से आकर बैठे हुए हैं और दफ्तर की तरफ जाने ही नहीं दिया जा रहा है। वह लोग सुबह नौ बजे यहां पर आए थे और दोपहर होने तक भूखे-प्यासे ही बैठे रहे।

ब्रांच में कर्मचारी भी खाली बैठे रहे

दूसरी तरफ प्रधानमंत्री आवास योजना कमरे के अंदर सारा स्टाफ पूरी तरह से फ्री बैठा हुआ था। किसी को भी बाहर खड़े लोगों की कोई चिता नहीं थी। कोई मोबाइल पर फेसबुक खोलकर देख रहा था तो कोई इंस्टा पर अलग-अलग वीडियो देखकर हंस रहा था।

अधिकारियों को देंगे निर्देश ताकि जनता को परेशानी न हो : निगम कमिश्नर

निगम कमिश्नर एमएस जग्गी ने कहा कि इस संबंधी जानकारी नहीं थी। लेकिन वह अधिकारियों को सख्त हिदायत जारी करेंगे कि भविष्य में इस तरह की गलती न हो, ताकि आम लोगो को परेशान न होना पडे़।

Edited By: Jagran