जागरण संवाददाता, अमृतसर : जिले में बढ़ रहे डेंगू के प्रकोप के बीच मेडिकल शिक्षा व खोज विभाग के मंत्री ओमप्रकाश सोनी ने नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को सख्त हिदायत की है कि शहर में फागिग की प्रक्रिया तेजी से की जाए। जिन क्षेत्रों में पानी जमा रहता है वहां निरंतर स्प्रे करें। सरकारी अस्पतालों में मरीजों को किसी तरह की तकलीफ का सामना न करना पड़े। अस्पतालों में बेड पूरे किए जाएं। ओमप्रकाश सोनी बुधवार को स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि डेंगू के खिलाफ व्यापक जंग छेड़ने की जरूरत है। हमने कोरोना से जंग लड़ी है और जीत भी प्राप्त की। इसी तरह डेंगू से शहरवासियों को बचाना है। सिविल सर्जन को हिदायत की है कि वे नगर निगम अधिकारियों के साथ डाक्टरों की ड्यूटी लगाएं, ताकि लोगों के टेस्ट किए जा सकें। प्रशासनिक अधिकारी अपने अधिकार क्षेत्र में दौरा करें, जहां प्रबंधों में कोई कमी है उसे दूर किया जाए। लारवा मिलने पर तत्काल चालान काटा जाए। पिछले वर्ष डेंगू प्रभावित इलाकों में सर्वे तेज कर मच्छर मार दवा का छिड़काव किया जाए। नगर निगम के अधिकारी यह सुनिश्चित करें कि जहां स्वास्थ्य विभाग कहता है वहां मच्छरमार दवा का तत्काल छिड़काव करें। इसके अतिरिक्त शहरवासी अपने घरों दुकानों, दफ्तरों आदि स्थानों पर पानी जमा न होने दें। डेंगू केसों में लापरवाही करने वाले अधिकारियों व डाक्टरों के अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

नगर निगम के मेयर कर्मजीत सिंह रिटू ने कहा कि निगम की ओर से नई फागिग मशीनें खरीदी जा रही हैं। शहर के भीड़भाड़ वालों में इलाकों में फागिग सुनिश्चित की जा रही है। इस अवसर पर डीसी गुरप्रीत सिंह खैहरा ने कहा कि पिछले दिनों डेंगू टास्क फोर्स की बैठक में निगम व स्वास्थ्य विभाग को संयुक्त रूप से काम करने के आदेश जारी किए गए थे।

सिविल सर्जन डा. चरणजीत सिंह ने कहा कि अब तक जिले में 278 डेंगू पाजिटिव पाए गए हैं। इस साल डेंगू का लारवा मिलने पर 546 चालान काटे जा चुके हैं। नगर निगम की यह बड़ी जिम्मेदारी है कि वह शहर में जलजमाव न होने दे।

इस अवसर पर निगम कमिश्नर मलविदर सिंह जग्गी, पुलिस कमिश्नर विक्रमजीत दुग्गल, जिला महामारी अधिकारी डा. मदन मोहन, एक्सईएन संदीप सिंह, पार्षद विकास सोनी, सर्बजीत सिंह लाटी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran