जागरण संवाददाता, अमृतसर

शहर में हो रहे अवैध निर्माणों पर आंखें मूंदे बैठे एमटीपी विभाग पर मेयर कर्मजीत सिंह रिटू ने शिकंजा कस दिया है। आज उन्होंने सभी विभागीय अधिकारियों को तलब किया और अवैध निर्माणों पर खूब खरीखोटी सुनाई। उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि मेयर-कमिश्नर द्वारा अवैध निर्माणों की शिकायत मिलने पर जो मैसेज विभागीय अधिकारियों को भेजा जाता है, उस पर कार्रवाई नहीं होती तो इससे ज्यादा उनसे क्या उम्मीद की जा सकती है।

मेयर रिटू ने शहर में हो रहे निर्माण को लेकर की जा रही कार्रवाई की समीक्षा करते हुए एमटीपी विभाग के अधिकारियों को सख्त चेतावनी दी कि विभाग के किसी भी एटीपी या बिल्डिंग इंस्पेक्टर को जब भी उनकी ओर से या कमिश्नर की ओर से बन रही किसी भी नाजायज बिल्डिंग के विरुद्ध कार्रवाई करने के लिए मैसेज किया जाए, उस पर कार्रवाई अमल में लाई जाए।

उन्होंने तो यहां तक कहा कि पिछले दिनों में जिन नाजायज निर्माणों के विरुद्ध विभाग द्वारा कोई कार्रवाई की गई है, वहां भी इमारतें बन चुकी हैं। इन बिल्डिंग को तत्काल प्रभाव से या तो गिरा देना चाहिए था या इनकी सीलिग की जानी चाहिए थी। उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि काम के प्रति लापरवाही बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी और दोषी अधिकारियों के खिलाफ बनती कार्रवाई की जाएगी। बैठक में अतिरिक्त कमिश्नर संदीप रिषी, डिप्टी मेयर युनूस कुमार, एमटीपी आइपीएस रंधावा के अलावा सभी एटीपी और बिल्डिंग इंस्पेक्टर हाजिर रहे। 26 तक मुहैया करवाएं अवैध निर्माणों की रिपोर्ट

मेयर ने सभी एटीपी व बिल्डिग इंस्पेक्टरों को उनके इलाकों में चल रही जायज व नाजायज निर्माण की पूरी लिस्ट 26 नवंबर को 11 बजे तक देने की हिदायत की। साथ ही यह भी हिदायत की कि आज के बाद उनके इलाके में कोई नाजायज निर्माण होता है तो उनकी ओर से बनती कार्रवाई समय पर नहीं की जाती है तो उस अधिकारी के विरुद्ध सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। कम्पाउंड या डेमोलेशन की हो कार्रवाई

उन्होंने हिदायत की है कि शहरवासियों को कोई भी निर्माण नक्शा पास करवा कर ही करने के लिए जागरूक किया जाए। विभाग की ओर से नक्शा पास करने संबंधी कार्रवाई समय पर निपटाई जाए ताकि जहां लोगों को सुविधा मिले, उसके साथ ही नगर निगम की आमदन में वृद्धि भी हो सके। जो नाजायज निर्माण अस्तित्व में आए हैं, उनके विरुद्ध कानून के अनुसार बनती कार्रवाई की जाए। जो केस कंपाउंड हो सकते हैं उनको प्रोसेस किया जाए। जो केस इस घेरे में नहीं आते हैं उनके विरुद्ध डेमोलिशन व सीलिग की कार्रवाई अमल में लाई जाए। उन्होंने कहा कि वह आप भी इन हो रहे नाजायज निर्माण का जायजा लेने के लिए शहर का दौरा करेंगे। वाल्ड सिटी में अब भी निर्माण जारी

उधर, दूसरी तरफ वाल्ड सिटी में अवैध होटलों की बात करें तो गली-गली में निर्माण आज भी जारी है। कटड़ा आहलुवालिया चौक, जड़उ गली, केसरी बाग, हनुमान मंदिर के सामने, जलियांवाला बाग के पास, जैन गली बाजार बीकानेरिया, लक्कड़ मंडी आदि क्षेत्रों में खुलेआम निर्माण चल रहे हैं, पर विभागीय अधिकारियों को यह दिखाई नहीं दे रहे। ऐसा नहीं है कि यह कोई नए निर्माण हैं। मेयर ने जैसे इशारा किया है, वह यही है कि जब भी किसी की शिकायत आती है तो उसके बाद वह बिल्डिंग विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से पूरी करवा दी जाती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!