जागरण संवाददाता, अमृतसर: कोर्ट में नाबालिग लड़की का फर्जी सर्टीफिकेट दिखाकर शादी करवाने वाले दूल्हे सहित दो लोगों के खिलाफ सिविल लाइन थाने की पुलिस ने केस दर्ज किया है। आरोप है कि सारे षड्यंत्र में गुरुद्वारा साहिब के ग्रंथी जसपाल सिंह ने आरोपित द्वारा मुहैया करवाए गए दस्तावेज तस्दीक नहीं करवाए। न्यायधीश दलजीत सिंह रल्हण के आदेश पर सिविल लाइन थाने की पुलिस ने लाहोरी गेट स्थित वरियाम सिंह कालोनी निवासी प्रथम सभ्रवाल और पुतलीधर के आजाद नगर निवासी जसपाल सिंह को नामजद किया है। एएसआइ राजेश कुमार ने बताया कि आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।

पुलिस के मुताबिक लगभग एक साल पहले प्रथम नाम के युवक ने फर्जी दस्तावेज दिखाकर गुरुद्वारा साहिब के माध्यम से नाबालिग लड़की से शादी रचा ली थी। गुरुद्वारा साहिब के ग्रंथी जसपाल ने सभी दस्वावेजों को तस्दीक कर शादी करवानी थी, लेकिन आरोपित जसपाल ने ऐसा नही किया। उसने दोनों की शादी करवाकर मैरिज सर्टिफिकेट जारी कर दिया। इसके बाद उस फर्जी सर्टिीफिकेट पर प्रथम ने कोर्ट में अर्जी दायर कर नाबालिग लड़की के परिवार से अपनी और परिवार के सदस्यों की सुरक्षा की गुहार लगाई थी। जब कोर्ट ने जांच के आदेश दिए तो पता चला कि नाबालिग का सर्टिफिकेट फर्जी है।

Edited By: Jagran