जागरण संवाददाता, अमृतसर : कर्नाटक की 14 साल 11 महीने की अपहृत लड़की को आरोपितों के चंगुल से रिहा करवाने के लिए कर्नाटक पुलिस को सहयोग न देने के आरोप में पंजाब महिला कमिशन की चेयरपर्सन मनीषा गुलाटी ने खलचियां थाना प्रभारी को तलब कर लिया है। कमिशन की चेयरपर्सन ने 'दैनिक जागरण' के 22 जनवरी के अंक में प्रकाशित खबर 'पिता का आरोप-नाबालिग बेटी को ढूंढने में सहायता नहीं कर रही खलचियां पुलिस' का संज्ञान लेकर उक्त कार्रवाई की है। गुलाटी ने बताया कि वह इस मामले में एसएसपी (देहाती) विक्रम दुग्गल से भी बात करेंगी।

पिछले पांच दिन से महानगर में बेटी की तलाश के लिए कर्नाटक पुलिस टीम के साथ थाने के चक्कर काट रहे पीड़ित पिता ने बार्डर जोन के आइजी सुरिदर पाल सिंह परमार को भी पत्र लिखकर इंसाफ की गुहार लगाई है। उन्होंने बताया कि कर्नाटक में नाबालिग बेटी के अपहरण की एफआइआर और बाबा बकाला में फर्जी जन्म तारीख का फर्जी शपथ पत्र बनाकर शादी रचाने का मामला भी खलचियां पुलिस के समक्ष स्पष्ट हो चुका है। इसके बावजूद थाना प्रभारी सुखदेव सिंह आरोपित पक्ष के दबाव में उनकी बेटी को बरामद नहीं करवा रहा। थाना प्रभारी उनकी बेटी का अपहरण करने वाले सवर्ण सिंह और उसके परिवार के साथ मिला हुआ है।

खलचियां पुलिस कार्रवाई में डाल रही अडंगा : कर्नाटक पुलिस

कर्नाटक पुलिस के इंस्पेक्टर सुरेश ने बताया कि खलचियां पुलिस से आरोपित को गिरफ्तार करने में सहयोग नहीं मिला। थाना प्रभारी सुखदेव सिंह उन्हें नाबालिग और उसे अपहरण करने वाले युवक से मिलवा चुके हैं। बावजूद इसके नाबालिग को बरामद कर किसी नारी निकेतन या फिर परिवार के सुपुर्द नहीं किया गया। स्थानीय पुलिस द्वारा किए गए अभद्र व्यवहार और कार्रवाई में रोड़ा अटकाने को लेकर वह अपने आला अधिकारियों को लिखित में शिकायत दे चुके हैं।

फर्जी शपथपत्र पर शादी करने के बाद कोर्ट से ले रखी है प्रोटेक्शन

आरोपित सर्वण सिंह कर्नाटक की नाबालिग युवती की फर्जी जन्म तारीख (शपथपत्र) तैयार कर गुरुद्वारा साहिब में शादी रचा चुका है। गुरुद्वारा साहिब के सर्टीफिकेट के आधार पर वह कोर्ट से प्रोटेक्शन भी हासिल कर चुका है। इसे पीड़ित परिवार और कर्नाटक पुलिस अदालत को गुमराह करना बता रही है।

अभी नहीं मिला नोटिस : थाना प्रभारी

खलचियां थाना प्रभारी सुखदेव सिंह ने बताया कि उन्हें पंजाब महिला कमिशन की तरफ से फिलहाल कोई नोटिस नहीं मिला है। अगर नोटिस मिलता है तो वह उसका जवाब दे देंगे। उन्होंने जो भी कार्रवाई की है वह निष्पक्ष की है। आरोपितों की तरफ से दिए गए दस्तावेजों की जांच की जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!