जेएनएन, अमृतसर : जलियांवाला बाग हत्याकांड की 100वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य पर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की ओर से क्षेत्रीय प्रचारक प्रमुख रामेश्वर के नेतृत्व में तिरंगा यात्रा निकली गई। तिरंगा यात्रा हाल गेट से शुरू होकर जलियांवाला बाग तक निकाली गई। यात्रा में सैकड़ों की संख्या में शामिल हुए आरएसएस के स्वयंसेवकों व आम लोगों ने भारतमाता की जय, वंदे मातरम के जयघोष के साथ जलियांवाला बाग में जाकर शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए। सभी ने दो मिनट का मौन भी रखा। रामेश्वर ने कहा कि यह तिरंगा यात्रा जलियांवाला बाग हत्याकांड की 100वीं वर्षगांठ पर आयोजित की गई है। इसका मकसद आम लोगों को भी जलियांवाला बाग नरसंहार के प्रति जागरूक करना है। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि जलियांवाला बाग में शहीद हुए लोगों को शहीद का दर्जा दिया जाए तथा उनके परिवारों को मुआवजा भी दिया जाए। लोगों को जागरूक कर रहा आरएसएस

उन्होंने कहा कि आरएसएस एक ऐसा संगठन है जो आंतकवाद व देश में फैल रही कुरीतियों के खिलाफ देश के लोगों को जागरूक कर रहा है। संगठन की विचारधारा से प्रभावित होकर भारी संख्या में लोग संगठन में शामिल हो रहे है। हमारे देश की आधारशिला धर्म है और यह आज भी एकता व अखंडता का प्रतीक बन कर दुनिया के सामने डट कर खड़ा है। यहां प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व राज्यसभा सांसद श्वेत मालिक, पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांता चावला, संघ के विभाग प्रचारक अक्षय कुमार, रजनीश अरोड़ा, युद्धवीर सैनी, भाजपा जिला अध्यक्ष आनंद शर्मा, राजिदर मोहन सिंह छीना, बक्शी राम अरोड़ा, अनिल जोशी व सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!