जागरण संवाददाता, अमृतसर : कांग्रेस के सांसद गुरजीत सिंह औजला ने कहा कि शहर में देसी शराब का कारोबार पुलिस की छत्रछाया में चल रहा था। यह हो नहीं सकता कि पुलिस को इस बारे में भनक ना हो। अवैध चलने वाले कारोबार पर नजर रखना सुरक्षा एजेंसियों का रहता है। पुलिस की गुप्तचर शाखा को शहर में चलने वाले अवैध शराब के कारोबार का पता नहीं चला इसमें हैरानी की बात है।

सांसद गुरजीत सिंह औजला ने बताया कि सड़क पर पुलिस कई वाहन चालकों को पकड़ती है। चेकिग के दौरान अगर कोई दस्तावेज पूरा नहीं होता तो वहां वाहन चालक को चालान करवाना पड़ता है या फिर पैसे देकर छूटना पड़ता है। इन हालातों में अवैध शराब पुलिस की मिलीभगत से नहीं बिक सकती। छोटे मुलाजिमों को सस्पेंड करने से कुछ नहीं होने वाला। यह सारा कारोबार बड़े स्तर पर चल रहा था। वह पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर सिंह को नहीं घेर रहे है। लापरवाही हुई है, मौतें भी हुई है। उन्होंने बताया कि प्रशासन सीएम से बच नहीं सकता। सीबीआइ को जांच देने के बारे में उन्होंने बताया कि इस बारे में सीएम ही कुछ बता सकेंगे। कोई सियासी नेता इस तरह के घिनौने काम में लिप्त नहीं हो सकता। अगर किसी नेता का संलिप्तता सामने आती है तो सुरक्षा एजेंसियों को इस बारे में रिपोर्ट देनी चाहिए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!