अटारी (अमृतसर )। भारत-पाकिस्तान स्वतंत्रता दिवस से पहले अपनी-अपनी जेलों में सजा भुगत चुके कैदियों को रिहा कर रिश्तों की डोर मजबूत करना चाहते हैं। शुक्रवार को भारत ने दोस्ती का हाथ आगे बढ़ाते हुए एक आतंकी व मछुआरे सहित 16 कैदियों को रिहा किया है। इसी कड़ी में पिछले दिनों पाकिस्तान ने 163 भारतीय मछुआरों को रिहा किया था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस पाकिस्तानी कैदियों को कड़ी सुरक्षा में लेकर अटारी सीमा पहुंची। इमीग्रेशन व कस्टम विभाग की जरूरी कागजी कार्रवाई के बाद रिहा कैदियों को अटारी-वाघा सड़क सीमा के रास्ते पाकिस्तान भेज दिया गया। रिहा किए गए पाक नागरिकों को बीएसएफ के सहायक कमांडेंट जेएस कंग ने पाकिस्तान रेंजर्स के डिप्टी सुपरिंटेंडेंट मोहम्मद वसीम के हवाले किया।

आतंकी गतिविधि में पकड़े गए पाकिस्तान के पंजाब झंग निवासी वसीम नूर को सात साल, गुजरावाला निवासी मोहम्मद फखर अजमान को आठ साल व मोहम्मद फिदायन को दस साल की सजा जम्मू-कश्मीर की जेलों में काटनी पड़ी।

तनवीर मोहम्मद पांच साल, मोहम्मद शकील तीन साल व वसीम हाशमी चार साल की सजा काटकर स्वदेश लौटे। इन कैदियों ने रिहा होने के बाद भारत सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि दोनों देशों की सरकारों को सजा भुगत चुके कैदियों को रिहा कर देना चाहिए, ताकि वे अपना भविष्य सुधार सकें।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!