जासं, अमृतसर: वर्ष 2021 में शहर को कई प्रोजेक्ट मिले और कई पूरे नहीं हो पाए। वहीं वर्ष 2022 में कई प्रोजेक्टों के पूरा होने से शहर की नुहार बदल जाएगी। आने वाला चुनावी साल है। ऐसे में आचार संहिता लगने के बाद कोई नए प्रोजेक्ट शुरू नहीं होंगे और नई सरकार बनने के बाद ही अगले प्रोजेक्टों पर कार्य होगा। बाकी स्मार्ट सिटी के अधीन व सरकार की ओर से चलाए जा रहे विभिन्न प्रोजेक्टों पर कार्य होता रहा तो वे इस नए साल में पूरे हो जाएंगे। इससे लोगों की राह आसान होगी। ट्रैफिक जाम से निपटने में मदद मिलेगी। शहर की खूबसूरती भी बढ़ेगी। इनमें स्मार्ट रोड, भंडारी पुल एक्सटेंशन, 22 नंबर फाटक पर आरओबी, इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर आदि शामिल हैं। इनमें ज्यादातर प्रोजेक्ट 70 से 80 प्रतिशत पूरे हो चुके हैं और 2022 में इनका काम पूर्ण तौर पर मुकम्मल कर लिया जाएगा। 125 करोड़ रुपये से स्मार्ट रोड बनेगी

स्मार्ट सिटी के अधीन बारह गेटों के ईर्द-गिर्द 7.50 किलोमीटर का स्मार्ट रोड बनाया जा रहा है। इस स्मार्ट रोड पर करीब 125 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे है। इस रोड को पूरा करने का लक्ष्य मार्च 2022 रखा गया था, मगर ट्रैफिक समस्या होने के कारण प्रोजेक्ट में थोड़ी देरी हो गई। अब यह पूरा रोड नवंबर 2022 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। इस पूरे रोड को विदेशी तर्ज पर विकसित किया जा रहा है। 1100 सीसीटीवी कैमरों से पूरे शहर पर रखी जाएगी नजर

स्मार्ट सिटी के अधीन इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (आइसीसीसी) में बैठकर पूरे शहर पर नजर रखी जा सकेगी। करीब 125 करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट की टेंडर प्रक्रिया पर काम चल रहा है और जल्द इसे पूरा कर लिया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के तहत पूरे शहर में विभिन्न जगहों पर 1100 के करीब कैमरे लगाए जाने हैं। इसके लिए 700 के करीब लोकेशन चुनी जा चुकी है। इसके जरिए न सिर्फ शहर में अपराध कम होगा बल्कि जनसुविधाओं को भी मुहैया कराने में बड़ी मदद मिलेगी। भंडारी पुल पर एक्सटेंशन से सरपट दौड़ेगा ट्रैफिक

भंडारी पुल पर बन रहे एक्सटेंशन का काम भी इसी साल अप्रैल तक पूरा कर लिया जाएगा। इस पुल का काम फरवरी 2019 में शुरू हुआ था। इस पर 20 करोड़ रुपये खर्च किए गए है। पुल पर दोनों तरफ आने-जाने के लिए करीब 31 फीट चौड़े टू-वे ब्रिज तैयार गए हैं। एक्सटेंशन के तैयार होने के बाद भंडारी पुल की ट्रैफिक समस्या का पूरी तरह समाधान हो जाएगा और रोजाना लगने वाले लंबे जाम से छुटकारा मिलेगा। 22 नंबर फाटक और वल्ला में आरओबी से रफर होगा आसान

वेस्ट और सेंट्रल हलके के लिए अहम 22 नंबर फाटक आरओबी का 80 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है जो मार्च 2022 में पूरा हो जाएगा। करीब 26 करोड़ रुपये की लागत से इसे तैयार किया जा रहा है। इसके बनने पर इस्लामाबाद, पुतलीघर और खालसा कालेज की तरफ से आने वाले वाहनों को लंबे ट्रैफिक जाम से निजात मिलेगी। इसी तरह 34 करोड़ की लागत से एक किलोमीटर लंबा वल्ला आरओबी तैयार होने के बाद वेरका और फतेहगढ़ चूड़ियां व मजीठा बाईपास की तरफ से मेहता रोड से होते हुए मकबूलपुरा और बस स्टैंड व अन्य हिस्से में जाना आसान हो जाएगा। इसकी एक तरफ का काम पूरा हो चुका है। दूसरी तरफ जंगलात विभाग से एनओसी पेंडिग होने के कारण लंबित है। मगर ट्रस्ट का जावा है कि इसी साल अप्रैल तक काम पूरा कर आम जन को समर्पित कर दिया जाएगा। चिन्मय चौक और लोहारका रोड पर अंडर पाथ बनने से रुकेंगे हादसे

नेशनल हाईवे अथारिटी आफ इंडिया (एनएचएआइ) की तरफ से रंजीत एवेन्यू अमृत आनंद पार्क के पास पड़ते चिन्मय चौक और लोहारका रोड पर व्हीकल अंडर पाथ (वीयूपी) का काम इसी साल में पूरा हो जाएगा। इसके बाद यहां होने वाले हादसों में कमी आएगी। चंडीगढ़ की रजिदर कुमार एंड कंपनी इसका काम कर रही है। इस पर 19.50 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। लोहारका से चिन्मय चौक तक करीब एक किलोमीटर तक यह वीयूपी होंगे। दोनों ही तरफ सर्विस लेन भी बनाई जा रही है। चिन्मय चौक में बनने वाले वीयूपी की लंबाई 12330 मीटर और जमीन से साढ़े पांच मीटर की ऊंचाई होगी।

Edited By: Jagran