जागरण संवाददाता, अमृतसर : मरीज की मौत के बाद अस्पताल में तोड़फोड़ और डाक्टर के अपहरण प्रयास के मामले में सदर थाने की पुलिस ने गुरदासपुर जिले के गांव भोजा भोमा सुखदेव सिंह और उसके चार साथियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। 2017 में हुई वारदात पर पुलिस की तरफ से कार्रवाई नहीं होने पर डा. आशीष ने कोर्ट में याचिका दायर की थी। न्यायधीश रविदरजीत सिंह बाजवा ने आदेश दिया है कि आरोपितों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की जाए। उधर, एएसआइ गुरचरण सिंह ने बताया कि आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापामारी की जा रही है।

मजीठा रोड स्थित आकाशदीप अस्पताल के डायरेक्टर डा. आशीष के बयान पर सदर थाना की पुलिस ने गुरदासपुर स्थित गांव भोजा भोमा निवासी सुखदेव सिंह और उसके चार अज्ञात साथियों के खिलाफ अस्पताल में घुसने, तोड़फोड़ करने, अपहरण प्रयास में केस दर्ज किया है। डा. आशीष ने बताया कि 24 मई 2017 को सुखदेव सिंह का भाई काफी बीमार था। उसे इलाज के लिए उनके अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। गंभीर बीमारी के चलते उसकी मौत हो गई थी। आरोपित सुखदेव सिंह ने आरोप लगाया था कि अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के कारण उसके भाई की मौत हुई है। घटना के बाद आरोपित ने अपने साथियों के साथ सड़क जाम कर दी थी। अस्पताल प्रबंधन को जान से मारने की धमकियां दी गई। जब आरोपितों को समझाने का प्रयास किया तो उन्होंने अस्पताल में घुसकर तोड़फोड़ की यही नहीं आरोपितों ने उनकी कार की चाबी छीन ली और उन्हें जबरदस्ती अपने कार में बैठाकर अपहरण करने का प्रयास किया। इस बाबत उन्होंने पुलिस को शिकायत दी थी लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की थी। इसके बाद उन्होंने इंसाफ के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

Edited By: Jagran