जेएनएन, अमृतसर। पाकिस्तान में कराची स्थित लांडी जेल से रिहा होकर भारत पहुंचे मछुआरों की आंखों में अजीब सी चमक थी। देश की धरती पर कदम रखने के बाद उनका जोश और उत्‍साह देखते ही बन रहा था। वतन लौटने के बाद उन्‍होंने पाकिस्‍तान की जेल में दी गई प्रताड़ना की दिल दहलना देने वाली दास्‍तान सुनाई।

समुद्र में भारतीय सीमा से पकड़ कर ले गए पाक नेवी के जवान, की मारपीट व खुफिया जानकारियां मांगी

कुछ मछुआरों बीमार थे, लेकिन देश की धरती पर लौटने के बाद उनमें खासा उत्साह था। अपने देश में साधारण रोटी और दवा के रूप में मिले पैरासिटामोल के टैबलेट उन्हें बहुत सुकून पहुंचाया। पाकिस्‍तान से भारत पहुंचे मछुआरों को लेकर अटारी के नायब तहसीलदार कर्णपाल सिंह रेडक्रास भवन पहुंचे। यहां पहुंच कर मछुआरे बार-बार आसमान की तरफ देखकर मुक्ति के लिए भगवान का शुक्रिया कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पाक जेल में रोटी और दवा मांगने पर क्रूर प्रताड़ना मिलती थी।

कराची की जेल से रिहा होकर भारत पहुंचे मछुआरों की आंखों में लौटी चमक

गुजरात के गिर सोमनाथ जिला के प्रवीन राठौर ने बताया कि समुद्र में मछली पकड़ते समय पाकिस्‍तान की नेवी ने उनकी किश्तियों पर फायरिंग कर दी थी। वह पांच साथियों के साथ किश्ती लेकर मार्च 2017 में समुद्र में उतरा था। मछली पकड़ते-पकड़ते अचानक पता चला कि पाक नेवी ने उन पर हमला कर दिया है। इस पर उन्होंने किश्ती को भगा लिया, लेकिन पाक नेवी ने उन पर फायरिंग तेज कर दी तो वे सहम कर रुक गए।

यह भी पढ़ें: विराट-अनुष्का को दोबारा करनी पड़ सकती है शादी, जानिये क्‍या है मामला

उसने बताया कि उन्हें गिरफ्तार करने के साथ उनकी किश्तियां,  मोबाइल फोन, वायरलेस सेट, जीपीएस (ग्लोबल पोजिशङ्क्षनग सिस्टम) समेत पूरा सामान कब्जे में ले लिया गया। हालांकि वे भारतीय क्षेत्र में ही थे लेकिन उन्हें पकड़ कर पाकिस्तान ले जाया गया। इससे पहले पाकिस्‍तानी नेवी के जवानों ने उनके साथ समुद्र में ही मारपीट की और भारतीय नेवी से संबंधित खुफिया जानकारियां हासिल करने की कोशिशें की जबकि उन्हें इस बाबत कुछ भी पता नहीं था।

सोमनाथ के मांडवी गांव के फिरोज नालिया (20) ने बताया कि मछली पकड़ने के लिए समुद्र में उतरने के 13वें दिन मई 2017 में उसे व उसके साथियों को पाक नेवी ने पकड़ लिया। फिरोज के साथ ही गिर सोमनाथ के गोपाल (30) व सुरेश कुमार ने बताया कि ज्यादातर बार पाक नेवी के जवान भारतीय सीमा से मछुआरों को पकड़ कर ले जाते हैं। इसका कारण लाखों रुपये कीमत की किश्तियां हैं जिनकी पाक में करोड़ों की कीमत है। उन लोगों से मारपीट कर इंडियन नेवी की लोकेशंस समेत अन्य जानकारियों के बारे में पूछा जाता है, जबकि भारत के कोस्ट गार्ड ऐसा नहीं करते।

यह भी पढ़ें: सीमा पर पाक सेना व रेंजर्स की बडी साजिश, भारत को परेशान करने को कर रही यह हरकत

 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!