हरदीप रंधावा, अमृतसर

इंडोनेशिया के जकार्ता में आयोजित एशियन गेम्स-2018 में सिल्वर पदक विजेता अजनाला की हॉकी खिलाड़ी गुरजीत कौर पंजाब सरकार के रवैये से खासी आहत हुई हैं। उनका कहना है कि धार्मिक व समाज सेवी संस्थाओं के अलावा प्रशासनिक अधिकारियों में से अजनाला के नायब तहसीलदार के अलावा राज्य के मुख्यमंत्री सहित किसी एमएलए और एमपी ने उनके घर आना तो दूर एक फोन कर के भी किसी ने मनोबल बढ़ाना मुनासिब नहीं समझा है।

सरकार के रवैये से नाराज गुरजीत कौर का कहना है कि यदि यही हालात रहे, तो वो दिन दूर नहीं जब राज्य के युवाओं का खेलों के जरिए नाम रोशन करने से मन जरूर ऊब जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने पड़ोसी राज्य हरियाणा की तर्ज पर उनकी योग्य नौकरी और कैश अवार्ड नहीं दिया, तो उनका ओलंपिक-2020 में हरियाणा की तरफ से खेलना लगभग तय है। प्रधानमंत्री ने बढ़ाया मनोबल

20 साल बाद फाइनल में पहुंचाने वाली पंजाब की महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी गुरजीत कौर ने कहा कि उन्हें जो पंजाब सरकार से जो उम्मीद थी, उस पर पानी फिर गया। पड़ोसी राज्यों के खिलाड़ियों को मिलने वाली सहूलियतों को देखकर उनका मन जरूर दुखी होता है। उन्होंने कहा कि हरियाणा की ही बात करें, तो उधर विजेता खिलाड़ियों को 3 करोड़ अवार्ड के तौर मिलता है। जबकि पंजाब सरकार की तरफ से खिलाड़ियों के लिए आज तक नई पॉलिसी ही नहीं बनाई है, जिससे उनका मनोबल बढ़े। उन्होंने कहा कि भारत आने के आद प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी खिलाड़ियों से मिलकर उन्हें शाबाशी देकर मनोबल जरूर बढ़ाया है। ओलंपिक में मेडल जीतना लक्ष्य

खेल के दौरान लगी चोट के कारण वर्तमान समय में गुरजीत कौर अच्छी तरह से चल नहीं पा रही है। उन्होंने कहा कि चोट के ठीक होने के बाद अब उनका मकसद ओलंपिक में मेडल जीतना है। वह ठीक होने के बाद तैयारी में जुट जाएंगी और मेडल जीत कर देश की झोली में डालने के लिए वह जी-जान से मेहनत करेंगी। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार ने खिलाड़ियों के विषय में यही रवैया अपना रखा, तो खिलाड़ी देश के अन्य राज्यों की तरफ से खेलना शुरू कर देंगे। उन्होंने कहा कि यदि सरकार सचमुच में चाहती है कि पंजाब के युवा खिलाड़ी मेडल जीतकर नाम रोशन करें, तो सरकार को भी उनका मनोबल बढ़ाने के लिए विशेष प्रयास करने होंगे। खेल मंत्री ने नहीं उठाया फोन

एशियन गेम्स में विजेता गुरजीत कौर की नाराजगी और खिलाड़ियों को पड़ोसी राज्यों की तर्ज पर योग्य नौकरी व कैश अवार्ड की घोषणा संबंधी प्रतिक्रिया लेने के लिए राज्य के स्पोर्ट मंत्री राणा गुरमीत ¨सह सोढी के मोबाइल नंबर-98180-05888 पर संपर्क किया गया, तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। बता दें कि खेल मंत्री सोढी खुद एक स्पो‌र्ट्समैन रहे हैं।

Posted By: Jagran