जागरण संवाददाता, अमृतसर :

कोविड-19 की महामारी की तीसरी लहर के मद्देनजर गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी (जीएनडीयू) ने हाल ही में प्रैक्टिकल के साथ-साथ लिखित परीक्षाएं आनलाइन करवाने की घोषणा कर रखी है। जबकि इंटरनेट मीडिया के माध्यम से आनलाइन परीक्षाएं रद होने की वायरल हो रही सूचना पर विद्यार्थियों को कतई ध्यान नहीं देना चाहिए, जोकि सरासर गलत है। जीएनडीयू से परीक्षा कंट्रोलर प्रोफेसर मनोज कुमार शर्मा का कहना है कि जीएनडीयू ने अपने सभी कालेजों में आनलाइन परीक्षाएं करवाने के लिए आदेश जारी कर रखे हैं, जिसमें कोई भी फेरबदल होना असंभव है, क्योंकि जीएनडीयू अब आनलाइन परीक्षाओं संबंधी डेटशीट जारी करने की तैयारी में जुटा हुआ है। किसी भी विद्यार्थी को अपनी परीक्षाओं संबंधी कोई जानकारी हासिल करनी है तो जीएनडीयू के वेबसाइट, विभाग या कालेज में संपर्क करके अपनी किसी भी परेशानी का समाधान पाया जा सकता है।

बता दें कि पिछले दिनों विद्यार्थियों के वाट्सएप ग्रुपों तक पहुंची सूचना की वजह से कई कालेज विद्यार्थी असमंजस में पड़ गए थे, क्योंकि उनके वाट्सएप ग्रुप की सूचना में लिखा था कि यूनिवर्सिटी ने आनलाइन परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं। वायरल हुई सूचना में लिखा गया था कि आनलाइन परीक्षाओं में विद्यार्थी नकल करते हैं, जिसके चलते हालात सुधरने के बाद ही आफलाइन माध्यम से परीक्षाएं आयोजित होंगी। यही नहीं इंटरनेट मीडिया पर जीएनडीयू का नाम इस्तेमाल करके डेटशीट भी जारी हुई है, जिन पर प्रोफेसर इंचार्ज डा. केएस काहलों का नाम लिखा हुआ है। जीएनडीयू की परीक्षाओं में किसी भी कालेज के विद्यार्थी को वायरल हुई फेक सूचनाओं पर ध्यान न देते हुए परीक्षाओं की तैयारी मुकम्मल करनी चाहिए।

Edited By: Jagran