संवाद सहयोगी, वेरका : पति व ससुराल परिवार द्वारा दहेज मांगने से दुखी होकर आत्महत्या की कोशिश करने वाली महिला डॉक्टर की एस्कार्ट अस्पताल में मौत हो गई। नेहरु कॉलोनी की सिमरन मजीठा रोड के निजी अस्पताल में काम करती थी। फूला रानी ने बताया कि बेटी का विवाह एक वर्ष पहले आनंदपुर साहिब के गागर गांव के डॉ. दिलबाग सिंह से हुआ था। इसके बाद उसकेससुराल वाले अमृतसर आ गए तथा हरि मंदिर मजीठा रोड में किराए के मकान में रहने लगे। ससुराल वाले ने दहेज की मांग को लेकर सिमरन के साथ मारपीट करनी शुरू कर दी व घर से बाहर निकाल देते थे। इसी दौरान दिलबाग सिंह के किसी अन्य लड़की से संबंध बन गए और वह सिमरन को छोड़कर उसके साथ विवाह करना चाहता था। सिमरन द्वारा ऐसे करने से रोकने मारपीट की जाती थी। 17 अप्रैल को सिमरन ने दुखी होकर जहर का इंजेक्शन लगा लिया। इस पर उसे एस्कार्ट अस्पताल में दाखिल करवाया, जहां उपचार के दौरान वीरवार को उसकी मौत हो गई। थाना मुखी प्रवीन कुमार ने कहा कि पीड़ित की मां के बयानों पर पति दिलबाग सिंह, ससुर सर्बजीत सिंह, सास धन्न कौर, चाची राजकुमारी, चाचा मिलक व कर्म नाम की लड़की के खिलाफ केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!