जागरण संवाददाता, अमृतसर। पाकिस्तान की कोट लखपत जेल में मारे गए भिखीविंड के सरबजीत के शव का पोस्टमार्टम करने वाले सरकारी मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. गुरमनजीत सिंह मान को विजिलेंस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। उन पर नकली चाजट दिखा कर गलत चिकित्सा रिपोर्ट देते थे। इसका उपयोग कानूनी मामलों मेंं किसा जाता था।

फोरेंसिक मेडिसिन साइंस डिपार्टमेंट के हेड डॉ. मान के साथ विजिलेंस ने गुरु नानक देव अस्पताल में कार्यरत कर्मचारी जीत कुमार को भी पकड़ा है। आरोप है कि जीत कुमार जाली चोटें दिखाकर मरीज तैयार करता था और डॉ. मान धारा 326 व 307 की मेडिको लीगल रिपोर्ट काटते थे। विजिलेंस ने जीत से 20 हजार रुपये भी बरामद किए।

पढ़ें : सिद्धू बिना मकसद कहीं नहीं जाते, गुरु जहां रहेगा छा जाएगा : राजू श्रीवास्तव

नकली चोट दिखाकर गलत मेडिकल रिपोर्ट बनाते थे, विजिलेंस ने डॉक्टर सहित दो को पकड़ा

तरनतारन के गांव सराय अमानत खां निवासी गुरजीत सिंह ने बताया कि 7 जून को जमीन को लेकर मोहिंदर सिंह से झगड़ा हुआ। मोहिंदर व उनके कुछ साथियों ने गोलियां चलाईं। गोली लगने से उनके दो साथी जख्मी हुए। उन्होंने भागकर जान बचाई। कुछ दिन बाद हमलावर मोहिंदर सिंह ने उन पर ही भादसं की धारा 307 के तहत केस दर्ज करवा दिया। वह हैरान रह गए कि आखिर पुलिस ने यह केस कैसे दर्ज किया।

मामले की तह तक जाने के लिए वह गुरु नानक देव अस्पताल पहुंचे। पता चला कि दर्जा चार कर्मी जीत ने मोहिंदर को फर्जी चोट लगाई और फिर डॉ. गुरमनजीत सिंह मान ने 307 की रिपोर्ट तैयार की। इसकी एवज में दोनों को मोटी रकम ली।

पढ़ें : कभी सिद्धू की नजर में 'नौटंकी वाला' थे केजरीवाल, अब उनकी ही राह चलने को तैयार

गुरजीत के अनुसार, जीत ने बताया कि नकली चोट दिखाने के बीस हजार रुपये लगेंगे। जीत ने कहा कि वह चोट भी लगा देगा और डॉ. मान से रिपोर्ट भी तैयार करवा देगा। जीत ने बुधवार सुबह साढ़े 11 बजे इमरजेंसी वार्ड के बाहर मिलने को कहा। गुरजीत ने इसकी जानकारी एसएसपी विजिलेंस केतन पाटिल को दी।

विजिलेंस ने गुरजीत को इमरजेंसी वार्ड के बाहर भेजा। वहां गुरजीत ने जीत को फोन किया। कुछ मिनट में जीत आया। जैसे ही गुरजीत ने जीत को पाउडर लगे बीस हजार रुपये पकड़ाए, ट्रैप लगाकर बैठी विजिलेंस टीम ने उसे धर दबोचा। इसके पश्चात फोरेंसिक डिपार्टमेंट के हेड डॉ. गुरमनजीत सिंह मान को भी गिरफ्तार कर लिया।

डीएसपी नवजोत सिंह ने बताया कि दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। उन्हें जानकारी मिली है कि अस्पताल में डॉक्टरों का एक बड़ा गिरोह सक्रिय है, जो नकली चोटें लगाकर गलत रिपोर्ट तैयार कर रहा है। गिरोह का जल्द ही भंडाफोड़ किया जाएगा।

विजिलेंस ने डॉ. मान को छोड़ा

विजिलेंस ने देर शाम डॉ. मान को छोड़ दिया। डॉ. मान ने बताया कि विजिलेंस उन्हें केवल पूछताछ के लिए साथ ले गई थी। एसएसपी विजिलेंस केतन पाटिल ने कहा कि विजिलेंस ने डॉ. मान को पकड़ा ही कब था। हालांकि विजिलेंस ब्यूरो के कचहरी परिसर स्थित कार्यालय में डॉ. मान और जीत कुमार दोनों को मीडिया के समक्ष पेश किया गया था। साथ ही डीएसपी विजिलेंस नवजोत सिंह ने डॉ. मान और जीत कुमार के खिलाफ एफआइआर दर्ज करने की भी बात कही थी।

जीत कुमार के घर से मिले 1.25 लाख और सोना

विजिलेंस ने जीत कुमार के भगतांवाला स्थित घर में छापामारी की। घर से 1.25 लाख रुपये व सोना बरामद किया गया है। पूछताछ में जीत कुमार ने बताया कि उसका फतहापुर में 16 लाख रुपये का एक प्लॉट भी है।

Posted By: Sunil Kumar Jha