जासं, अमृतसर : एक बार फिर से देश भर में कोरोना केसों में वृद्धि होने के कारण लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इसको देखते हुए जीएसटी की विभिन्न रिटर्ने फाइल करने के लिए तारीखों को आगे बढ़ाने की मांग की गई है, क्योंकि कोविड के बढ़ते मामलों के कारण फिर से दूसरे शहरों में आने-जाने और खरीद-बिक्री आदि संबंधी दस्तावेजों का आदान-प्रदान करने में मुश्किल आ रही है। ऐसे में व्यापारियों को डर है कि वे तय समय पर रिटर्न फाइल नहीं कर सके तो विभाग की ओर से जुर्माना लगाया जाएगा। इस संबंधी खास तौर पर जीएसटी प्रैक्टिशनर एसोसिएशन की ओर से भी इस संबंधी अपील की जा रही है। ताकि तारीखों को आगे बढ़ाकर व्यापारियों को राहत दी जा सके। अमृतसर में ही हजारों रिटर्ने लंबित: नवीन सहगल

जीएसटीपीए के पूर्व प्रधान एडवोकेट नवीन सहगल ने बताया कि जीएसटी के नियमों में लगातार बदलाव होने के कारण पिछले चार सालों से रिटर्नें फाइल होने से लगातार लटक रही है। अभी भी केवल अमृतसर में हाजारों की संख्या में अलग-अलग रिटर्नें पेंडिग है। इस संबंध में जीएसटी कौंसिल को लिख कर भी भेजा जा रहा है। जिसमें खास कर वन टाइम सेटलमेंट स्कीम, जीएसटीआर 9 को फाइल करने में आने वाली समस्याएं, जीएसटीआर 1 और 3 बी को फाइल करने के लिए समय आगे बढ़ाने, रिफंड बिना देरी के देने, जीएसटी पोर्टल को अपडेट करने, बिना लिस्ट हुए नोटिस जाने जैसी समस्याओं के बारे में बताया गया है। 31 मार्च 2022 तक बढ़ाई जाए तारीख

जीएसटी प्रैक्टिशनर एसोसिएशन के पूर्व उप-प्रधान विकास खन्ना बताया कहा कि जीएसटीआर 9 को फाइल करने के लिए 28 फरवरी आखिरी तारीख है। जोकि बहुत ही कम समय है। क्योंकि महाराष्ट्र, दिल्ली, मध्यप्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में कोविड के केस बढ़ रहे हैं। ऐसे में व्यापारियों को जीएसटी फाइल करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस तहत तारीख 31 मार्च तक बढ़ानी चाहिए। ताकि बिना किसी संकोच के आसानी से व्यापारी अपनी रिटर्नें फाइल करवा सकें।

Edited By: Jagran