जेएनएन, अमृतसर। CRPF के इंस्पेक्टर गुरमिंदर सिंह, उसकी प्रेमिका और हरियाणा के डबवाली स्थित संत बाबा निक्कू दास के डेरे के सेवादार गुरविंदर सिंह उर्फ गोरा को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपितों ने मिलकर बलजीत कौर (CRPF इंस्पेक्टर की पत्नी) की हत्या का षडय़ंत्र रचा था। फिलहाल पुलिस अभी तक पैसे लेकर हत्या करने वाले दो सुपारी किलरों को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। पुलिस कमिश्नर सुखचैन सिंह गिल ने बताया कि जांच में सामने आया है कि इंस्पेक्टर ने अपनी पत्नी को रास्ते से हटाने के लिए अपनी प्रेमिका वीरपाल कौर को पांच लाख रुपये दिए थे।

पुलिस लाइन में प्रेस कांफ्रेंस में पुलिस कमिश्नर सुखचैन सिंह गिल, डीसीपी मुखविंदर सिंह भुल्लर और एडीसीपी संदीप मलिक ने बताया कि बुधवार सुबह दो नकाबपोशों ने कोट खालसा थाना क्षेत्र के तहत आजाद नगर निवासी गुरमिंदर सिंह (चंडीगढ़ स्थित 85 बटालियन) की पत्नी की घर में घुसकर हत्या कर दी थी। घटना के दौरान पड़ोसियों के घर के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में हत्यारे कैद हो गए थे। बुधवार शाम को पुलिस ने गुरमिंदर को संदेह के आधार पर हिरासत में ले लिया था। पूछताछ के दौरान उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया।

वीरपाल कौर के इश्क में अंधा हो चुका था गुरमिंदर सिंह

सुखचैन सिंह ने बताया कि आरोपित ने स्वीकार किया कि कुछ साल पहले उसके प्रेम प्रसंग जालंधर स्थित अर्बन एस्टेट के फेज-2 निवासी वीरपाल कौर से बन गए थे। वह अपनी पत्नी से तलाक चाहता था, लेकिन वह कहती थी कि जब उसका बेटा 18 साल का होगा तभी तलाक देगी। मगर, वह वीरपाल कौर के इश्क में अंधा हो चुका था।

सुपारी किलरों में एक आरोपित बठिंडा का

सुखचैन सिंह ने बताया कि वीरपाल कौर हरियाणा के डबवाली क्षेत्र में स्थित संत बाबा निक्कू दास के डेरे पर जाती थी। डेरे के सेवादार गुरविंदर सिंह की भी वीरपाल कौर से नजदीकियां थी। वीरपाल कौर ने इंस्पेक्टर की पत्नी को रास्ते से हटाने के लिए सेवादार से भी बात कर रखी थी। दो माह पहले तीनों ने मिलकर डबवाली के गांव मसीतां निवासी सुखदीप सिंह उर्फ जेपी और बङ्क्षठडा के सेखवां गांव निवासी देसा को हत्याकांड को अंजाम देने के लिए हायर किया था। पत्नी की जीवनलीला समाप्त करने के लिए गुरमिंदर ने अपनी प्रेमिका को पांच लाख रुपये का भुगतान भी किया था। पुलिस ने बताया कि शेष दो आरोपितों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

मृतका के परिवार के बयान से हुआ था संदेह

बलजीत कौर के परिवार के सदस्यों ने पुलिस को बताया था कि उनकी बेटी उनके दामाद से काफी परेशान थी। दोनों में बनती नहीं थी। दामाद अक्सर तलाक की बात करता था। मगर, उनकी बेटी तलाक नहीं दे रही थी। उनकी बेटी को संदेह था कि उसके पति का किसी अन्य महिला के साथ अवैध संबंध हैं। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!