अमृतसर, जेएनएन। पंजाब के पूर्व स्थानीय निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के करीबी होटल कारोबारी अमरजीत सिंह समेत तीन लोगों पर पुलिस ने 1.60 करोड़ रुपये की ठगी का मामला दर्ज किया है। अमरजीत पर आरोप है कि उसने खुद को सिद्धू का ओएसडी (ऑफिसर ऑन स्पेशल ड्यूटी) बताकर विदेश में रह रहे हरपिंदर सिंह से अपने कारोबार में निवेश करवाया। हरपिंदर की शिकायत है कि तीनों आरोपित उसे जान से मारने की धमकियां दे रहे हैं।

पुलिस ने आरोपित अमरजीत सिंह, उसके भाई व बैंक कर्मी के खिलाफ दर्ज किया धोखाधड़ी का मामला

पीडि़त एनआरआइ ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह व डीजीपी दिनकर गुप्ता को पत्र लिखकर इंसाफ की गुहार लगाई है। उधर, जांच अधिकारी सब इंस्पेक्टर प्रकाश सिंह ने बताया कि आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापे मार रही है। रंजीत एवेन्यू के डी. ब्लॉक के रहने वाले हरपिंदर सिंह के बयान पर पुलिस ने शिवाला कॉलोनी के होटल कारोबारी व वकील अमरजीत सिंह, उसके भाई सुखजिंदर सिंह व एक बैंक के सेल्स मैनेजर फतेह सिंह कॉलोनी के राहुल खन्ना के खिलाफ धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज तैयार करने और षड्यंत्र रचने के आरोप में केस दर्ज किया है।

नवजोत सिंह सिद्धू के साथ आरोपित अमरजीत सिंह। (फाइल फोटो)

विदेश में रहने वाले दोस्त के लाखों रुपये होटल कारोबार में लगवाए

हरपिंदर सिंह ने बताया कि उनका ज्यादा समय विदेश में ही बीता है। दोनों आरोपित भाई उसके दोस्त हैं। 2015 में जब वह विदेश से लौटा तो दोनों उससे मिलने पहुंचे थे। आरोपितों ने बताया कि गुरु नगरी में होटल कारोबार में काफी पैसा है। मिलकर काम करने से वह करोड़ों कमा सकते हैं।

हरपिंदर के अनुसार, अमरजीत सिंह ने उसे बताया था कि वह पूर्व निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू का ओएसडी है। आरोपितों के कहने पर उसने बस अड्डे के पास होटल डीएस रिजेंसी खरीदा था। इसके बाद कटरा आहलूवाला स्थित होटल डीएस इन लिया। इसके बाद वह दोबारा विदेश चला गया। अमरजीत सिंह और सुखजिंदर सिंह उसे यही बताते थे कि दोनों होटल घाटे में जा रहे हैं।

नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्‍नी के समर्थन में लगाए गए पोस्‍टर मेें अमरजीत सिंह की फोटो।

संदेह होने पर मांगा हिसाब

हरपिंदर का कहना है किे को आरोपितों की नीयत पर संदेह होने लगा। वह भारत लौट आया और हिसाब करने को कहा। पैसों की वसूली के लिए डीएस रीजेंसी होटल को 4 करोड़ 70 लाख में बेच दिया। इसके बाद उसे 55 लाख का चेक दिया गया था, जो बाद में बाउंस हो गया था।

नवजोत कौर सिद्धू के साथ अमरजीत सिंह। (फाइल फोटो)

उसने बताया कि आहलूवाल कटरा में स्थित होटल डीएस इन को बेचने लगे तो पता चला कि आरोपितों ने आइडीएफसी बैंक कर्मी राहुल खन्ना के साथ मिलकर होटल डीएस रीजेंसी के कर्ज को होटल डीएस इन पर ट्रांसफर कर दिया था। इस सारे षड्यंत्र में उनके फर्जी हस्ताक्षर किए गए। उनके साथ उक्त आरोपितों ने कुल 1.60 करोड़ की ठगी की है। पुलिस का कहना है कि मामला दर्ज कर जांच की जा रही है़

यह भी पढ़ें: हरियाणा के सीएम मनोहर बोले- नृत्य गोपाल जी खाना खाइये, फिर आप और हम मंदिर बनाने चलेंगे

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!