जागरण संवाददाता, अमृतसर : डीटीओ कार्यालय के ड्राइविग टेस्टिंग ट्रैक पर अचानक ब्रेक लगा दी गई। बुधवार को यह ट्रैक पूर्व सूचना दिए बिना ही बंद कर दिया गया। इससे बाहर खड़े लोग भड़क उठे। सुबह आठ बजे से लाइसेंस अप्लाई करने पहुंचे इन लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर था।

दरअसल, टेस्टिग ट्रैक पर वाहन चलाकर टेस्ट देने के बाद ही लर्निंग लाइसेंस जारी किया जाता है। इसके बाद दो माह बाद पक्का लाइसेंस दिया जाता है। बुधवार सुबह ट्रैक का मुख्य गेट बंद कर दिया गया। लोगों ने कारण पूछा तो सुरक्षा कर्मियों ने अंदर से आदेश आया है कही। इसके बाद लोग इंतजार करने लगे, जब एक घंटा बीतने के बाद भी उन्हें नहीं बुलाया गया तो उन्होंने नारेबाजी शुरू कर दी। ट्रेस्टिग ट्रैक के बाहर मेन रोड पर जाम लग गया। मौके पर पुलिस पहुंची और लोगों की बात सुनी। टेस्टिग ट्रैक के स्टाफ ने बताया कि कुछ तकनीकी खराबी आई है, इसलिए अपडेट नहीं हो रहा।

लर्निंग लाइसेंस लेने आए विश्वजीत के अनुसार वह छह महीने से परेशान हैं। तीन बार चक्कर लगा चुके हैं। हर बार कोई न कोई खामी निकालकर भेज दिया जाता है। बलबीर के अनुसार सुबह साढ़े नौ बजे वह यहां पहुंच गए। बुधवार को लर्निंग लाइसेंस की तारीख मिली थी। अब अगली तारीख 15 अक्टूबर हैं। विभाग की लापरवाही का खामियाजा आम जनता भुगत रही है। लोगों का आरोप था कि डीटीओ कार्यालय में दलालों का कब्जा है। सीधे तौर पर लाइसेंस के लिए अप्लाई करना पड़े तो पसीने छूटे जात हैं। ऐसे में लोग दलालों को पांच हजार रुपये देकर सारी प्रक्रिया करवाते हैं। अब टेस्टिग ट्रैक में उन्हें परेशान होना पड़ा।

Edited By: Jagran