मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जेएनएन, अमृतसर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह रविवार को अमृतसर में शक्ति केंद्र प्रमुखों के सम्मेलन में पहुंचे। उन्होंने यहां गोल्डन व्यू रिजॉर्ट में अमृतसर, गुरदासपुर व होशियारपुर लोकसभा क्षेत्र के बूथ इंचार्जों और पंजाब के पदाधिकारियों से मुलाकात कर चुनाव को लेकर चर्चा की।

 

मंच पर पहुंचने पर भाजपा अध्यक्ष अमित का खड्ग सौंपकर स्वागत किया गया।

इस मौके पर शाह ने कहा कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले में पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब अगर कोई दे सकता है तो वह भाजपा ही है। इसलिए 2019 में केंद्र में दोबारा भाजपा की सरकार जरूरी है और इसमें पंजाब का सहयोग भी जरूरी है। इसलिए अगले तीन महीने के लिए भाजपा का हर कार्यकर्ता भाजपा के हिस्से की तीन लोकसभा सीटों के लिए ही नहीं बल्कि पंजाब की 13 की 13 सीटों के लिए डट जाए। बता दें कि पंजाब में भाजपा के पास तीन सीटें हैैं। होशियारपुर को छोड़ कर गुरदासपुर व अमृतसर लोकसभा सीटों पर कांग्रेस का कब्जा है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अमृतसर में हुए सम्मेलन में मौजूद उत्साहित भाजपा कार्यकर्ता।

महागठबंधन अब तक अपना नेता ही नहीं तय कर पाया

शाह में राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के खिलाफ बने रहे महागठबंधन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर देश में गठबंधन की सरकार बनी तो हर बार कोई अलग प्रधानमंत्री होगा। सोमवार को कोई तो मंगलवार को कोई होगा। महागठबंधन अभी तक अपना नेता ही तय नहीं कर पाया है, जबकि दूसरी तरह एनडीए का नेता नरेंद्र मोदी हैं। देश दोबारा उन्हें प्रधानमंत्री बनाना चाहता है।

कैप्टन सरकार और मंत्री नवजोत सिद्धू पर भी साधा निशाना

पंजाब सरकार पर वार करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र की यूपीए सरकार ने अपनी कार्यकाल में पंजाब को विकास के लिए 30157 करोड़ दिए। वहीं, मोदी सरकार ने 1,61,907 करोड़ रुपये खर्च किए। कैप्टन सरकार ने पंजाब के लोगों को अकाली-भाजपा सरकार द्वारा दी गई सारी सुविधाएं बंद कर दी। विकास बंद कर दिया। चुनाव में किया एक भी वायदा पूरा न करते हुए लोगों को ठगने का काम किया है। कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि सिद्धू करतारपुर कोरिडोर लगाने की बात कर रहे हैं, जबकि उनकी पार्टी कांग्रेस की वजह से ही करतारपुर भारत से नहीं मिल सका। मोदी सरकार ने करतारपुर कोरिडोर की शुरूआत कर नई पहल की है।
 

1984 के दंगा पीड़ितों को न्याय दिलाया

उन्होंने कहा कि 1984 के दंगा पीड़ित 30 सालों से न्याय के लिए भटक रहे थे। मोदी सरकार ने ही पहल करते हुए एसआईटी का गठन किया। पीड़ितों को पांच-पांच लाख रुपये दिए और सज्जन कुमार को जेल भेजा। समारोह में पूर्व लेफ्टीनेट जरनल व पंजाब सर्विस कमीशन के चेयरमैन रहे मनजिंदर सिंह और एडीजीपी आरपी मित्तल ने भाजपा में शामिल होने की घोषणा की।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!