जासं, अमृतसर : आशा वर्कर व फैसिलिटेटर यूनियन पंजाब की ओर से अपनी मांगों को लेकर केंद्र व राज्य सरकारों के खिलाफ रोष-प्रदर्शन किया। कंपनी बाग में आयोजित रोष प्रदर्शन के दौरान नारेबाजी करते हुए वर्करों ने सरकार का पुतला फूंककर रोष मार्च भी निकाला।

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए संगठन की जिला अध्यक्ष रघुबीर कौर, सीटू नेता और सरोज बाला ने कहा कि कोरोना काल के दौरान फ्रंट वर्कर के रूप में ड्यूटी निभा रही आशा वर्करों और फैसिलिटेटरों को वह सुविधाएं सरकार नही दे रही है जो सुविधाएं इस वर्करों को नियमों के अनुसार मिलनी चाहिए। ड्यूटी के दौरान अगर कोई कर्मी मृत्यु को प्राप्त हो जाता है तो उसे 50 लाख रुपये की बीमा राशी व अन्य सुविधाओं से वर्करों को दूर रखा जा रहा है। जो सुविधाएं अन्य फ्रंट लाइन वर्करों के लिए घोषित की गई है। इन वर्करों का वेतन भी बहुत ही कम है। जबकि काम तय नियमों के अनुसार अधिक लिया जा रहा है। उनकी मांग है कि वर्करों को हर माह 7500 रुपये अतिरिक्त दिए जाएं और अन्य सभी लाभ भी प्रदान किए जाएं। वर्करों को 24000 रुपये प्रति माह वेतन दिया जाए। कर्मचारियों की सेवाएं रेगुलर की जाएं। अगर उनकी मांगों के प्रति ध्यान न दिया गया तो नौ अगस्त को मोहाली में डायरेक्टर हेल्थ के कार्यालय का घेराव किया जाएगा।

इस मौके पर चरणजीत सिंह मजीठा, जसवंत कौर, बलबीर कौर, इकबाल कौर, कंवलदीप कौर, ज्योति, आरती पूजा, कुलविदर कौर, सुखविदर कोर, प्रेम बलास, गुरप्रीत कौर, परमजीत कौर, नरिदरपाल मौजूद थे।

Edited By: Jagran