अध्यापक नेताओं ने कहा, सरकार नजरअंदाज कर रही है उनकी मांगों को

फोटो-34 व35

संवाद सहयोगी, अमृतसर

अध्यापकों ने एक बार फिर मंगलवार को सरकार के खिलाफ अपनी भड़ास निकाली। डीसी दफ्तर के करीब अध्यापक संघर्ष कमेटी के बैनर तले सैकड़ों अध्यापकों ने पंजाब सरकार की अर्थी फूंक प्रदर्शन किया और नारेबाजी की। इस रोष धरने में बड़ी संख्या में अध्यापक हाजिर थे।

अध्यापकों ने इस अवसर पर मांग की कि गैर लोकतांत्रिक व आर्थिक तौर पर नुकसान पहुंचाने वाले फैसले वापस लिए जाएं। इसके अलावा 5178 मास्टर कैडर की रेगुलर नियुक्तियों का नोटिफिकेशन शीघ्र जारी किया जाए। रैशनेलाइजेशन नीति ठीक की जाए। डेमोक्रेटिक टीचर यूनियन जिला ईकाई के प्रधान अश्विनी अवस्थी ने मांग की कि प्राइमरी स्कूलों के हैड टीचरों की पोस्टों को कम न किया जाए और तुरंत उन्नति की जाए। इसी तर्ज पर हैडमास्टर व लैक्चरार काडर की प्रमोशन, वोकेशनल मास्टरों की तरक्की का काम शीघ्र पूरा किया जाए।

अध्यापकों की मांग है कि अध्यापक नेताओं की हुई बर्खास्तगी, मुअत्तली, प्रबंधकीय आधार पर बदली, कारण बताओं नोटिस रद करवाने के लिए, एसएसए-रमसा अध्यापकों की पगार कटौती रद करवाने व ठेका आधारित अध्यापकों को रेगुलर करवाने, डीए किश्तें जारी करने व पे कमिशन रिपोर्ट जारी करके सरकार लागू करे।

इस अवसर पर अध्यापक नेताओं में हर¨जदरपाल ¨सह पन्नू,अश्विनी अवस्थी,बलदेव राज,मंगल टांडा, प्रभ¨जदर ¨सह, ह¨रदर पाला, संतसेवक ¨सह, मलकीत, सुख¨जदर सठियाला,करणराज ¨सह,गगनदीप ¨सह,सुखराज ¨सह बाजवा, दीपक गगोमाहल,बिक्रमजीत ¨सह ने कहा कि इस समय शिक्षा विभाग तानाशाही ढंग से चल रहा है जिसमें स्कूल मुखियों से लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारी तक घुटन महसूस कर रहे हैं। यही नही शिक्षा सचिव शिक्षा विभाग को निजीकरण के रास्ते ले जाने की साजिश रचने का आरोप भी अध्यापकों ने लगाया।

इस मौके पर बलकार ¨सह वलटोहा,जरमनजीत ¨सह,गुरदीप ¨सह बाजवा,सतबीर ¨सह बोपाराए,सुख¨वदर ¨सह मान,ह¨रदर विछोहा,धन्ना ¨सह गियाली,दिलबाग ¨सह, सर्बजीत ¨सह,अजय डोगरा, लख¨वदर ¨सह संगुआना,गुर¨बदर ¨सह खैहरा व लख¨वदर ¨सह गिल हाजिर थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!