फोटो-88 व 89

संवाद सहयोगी, अमृतसर

5178 अध्यापक यूनियन ने अध्यापक दिवस को काले दिवस के रूप में मनाया। रेगुलर करने की मांग को लेकर बुधवार देर शाम अध्यापकों ने कंपनी बाग से कैंडल मार्च निकाला। यह कैंडल मार्च कंपनी बाग से शुरू हुआ। क्रिस्टल चौक से होते हुए भंडारी पुल व हाल गेट जाकर खत्म हुआ। अध्यापकों की मांग है कि टीचर एलिजबिल्टी टेस्ट पास करने के बावजूद कांट्रेक्ट पर मात्र छह हजार रुपये माह वेतन पर काम करने को मजबूर है। नवंबर माह में उन्हें सरकार ने नियमित करना था, लेकिन अभी तक नियमित नहंी किया गया है।

अध्यापक नेता अमरप्रीत ¨सह ने बताया कि 5178 अध्यापक तीन साल के बाद रेगुलर किए जाने थे। उनकी नियुक्ति पत्र की शर्तों में यह लिखा गया है। इससे पहले सरकार ने टी¨चग फैलो, 7654, 3442 भर्ती भी तीन साल के ठेके के तहत की थी। पर इनको फुल स्केल पर रेगुलर कर दिया। इसके तहत 5178 अध्यापकों को भी नवंबर 2017 में विभाग द्वारा रेगुलर की फाइलें मंगवा ली थी पर अब तक उनको रेगुलर के आर्डर जारी नहीं किए गए। सरकार द्वारा अब नई पालिसी तैयार की जा रही है। जिसमें तीन साल के बेसिक पे पर काम किया जाना है। उन्होंने कहा कि 5178 पहले ही विभाग की मंजूरशुदा पोस्टों पर कम तनख्वाह पर काम कर चुके है। यदि सरकार जबरदस्ती 10300 की पालिसी लागू करती है तो यह लोकतंत्र का हनन होगा। इस अवसर पर जरमनजीत ¨सह, निर्मल कुमारी, राज कुमारी, बलजीत कौर, सुमित शर्मा, कोमलदीप कौर, उपासना, राज करण, अमनदीप कौर, राज कौर आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran