जागरण संवाददाता, अमृतसर

एनआरआइ थाने की पुलिस ने फर्जी दस्तावेजों पर पंजाब एंड ¨सध बैंक से 20 लाख रुपये का लोन पास करवाने वाले मोदे गांव निवासी सुख¨वदर ¨सह उर्फ संदीप ¨सह को गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि सुख¨वदर ¨सह ने अपने ही गांव व मौजूदा समय में अमेरिका निवासी संदीप ¨सह के झूठे दस्तावेज तैयार करवाकर धोखाधड़ी को अंजाम दिया। फिलहाल पुलिस अमरीक ¨सह नाम के दलाल और नंबरदार इकबाल ¨सह को तलाश कर रही है।

एनआरआइ थाने के प्रभारी परनीत ढिल्लों ने बताया कि आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। पकड़े गए आरोपित को अदालत में पेश किया गया। जहां से उसे पुलिस रिमांड पर भेजा है। बताया जा रहा है कि आरोपित ने पुलिस हिरासत में कई अहम खुलासे किए हैं।

मामले की पैरवी कर रहे वकील रवि महाजन ने बताया कि मोदे गांव निवासी संदीप ¨सह औलख पिछले काफी समय से अमेरिका में रह रहे हैं। उनकी कुछ जमीन गांव मोदे में है। गांव के ही सुख¨वदर ¨सह ने अमेरिका निवासी संदीप ¨सह बनकर उसकी जमीन के पहले फर्जी दस्तावेज तैयार करवाए और फिर पंजाब एंड ¨सध बैंक से 20 लाख रुपये का लोन पास करवा लिया। पता चला है कि सुख¨वदर ¨सह का लोन पास करवाने में अमरीक ¨सह नाम के व्यक्ति ने अहम भूमिका निभाई है। बताया जा रहा है कि अमरीक ¨सह शहर के बैंकों के कुछ मुलाजिमों के साथ लोन दिलाने में दलाल की भूमिका निभाता है। जांच में सामने आया कि आरोपित ने नोटबंदी के दौरान लोन लिया था और फिर उक्त राशि नहीं निकलवा पाने के कारण उसने 20 लाख रुपये अलग-अलग खातों में ट्रांसफर करवाए थे। पैसे लेने के बाद आरोपित भूमिगत हो गया था। जब बैंक को लोन के पैसे नहीं मिलने शुरु हुए तो पुलिस को शिकायत की गई। बैंक ने इस बाबत एनआरआइ संदीप ¨सह को जानकारी दी तो सारा मामला साफ हो गया। जांच के बाद पुलिस ने केस दर्ज कर लिया था।

Posted By: Jagran