अमृतसर, संवाद सहयोगी : शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम द्वारा सिखों के धार्मिक चिन्ह कृपाण केसाथ केक काटकर सिखों की धार्मिक भावनाओं को भड़काने के लिए कड़ी निंदा की है। एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने कहा कि सौदा साध जानबूझकर सिखों की धार्मिक भावनाओं को भड़काकर राज्य के शांतिपूर्ण माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहा हैं और सरकार खामोश हैं।

जानबूझकर सिखों की भावनाओं को भड़काया जा रहा 

उन्होंने कहा कि कृपाण सिखों का महत्वपूर्ण धार्मिक चिन्ह है, जिसे सिख बर्दाश्त नहीं कर सकता। सौदा साध ने कृपाण से केक काटकर सिख ककार को चोट पहुंचाई है। उन्होंने कहा कि दुष्कर्म और हत्या के संगीन आरोप में सजा काट रहे ऐसे अपराधी को सरकार द्वारा बार-बार पैरोल पर रिहा किया जा रहा है और वह जानबूझकर बाहर निकलकर सिखों की धार्मिक भावनाओं को भड़का रहा है।

उन्होंने कहा कि देश का संविधान सभी को अपनी धार्मिक भावनाओं की कद्र करना सिखाता है और किसी को भी किसी की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का अधिकार नहीं है। हरजिंदर सिंह धामी ने कहा कि यह दुख की बात है कि सरकार ऐसे अपराधी को विशेष छूट दे रही है, जो देशहित में नहीं है। एसजीपीसी अध्यक्ष ने सरकार से मांग की कि सौदा साध की पैरोल तत्काल रद्द कर उसे सलाखों के पीछे भेजा जाए।

Edited By: Nidhi Vinodiya

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट