जागरण न्यूज नेटवर्क, अमृतसर

पूर्व मंत्री प्रो. लक्ष्मीकांता चावला ने कहा है कि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल अपने पिता पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश ¨सह बादल सहित श्री दरबार साहिब में अकाल तख्त साहिब के समक्ष सिर झुकाकर पिछले दस वर्षों में की गई गलतियों के लिए क्षमा मांगने के लिए हाजिर हुए। ईश्वर के दरबार में आकर गलतियों के लिए क्षमा मांगना, पश्चाताप करना तो सही है, पर सुखबीर बादल को यह बताना होगा कि वे किस-किस गलती के लिए माफी मांग रहे हैं। प्रकाश ¨सह बादल ने तो एक ही गलती की आंखें बंद करके पुत्र मोह में फंसे फंसे सुखबीर बादल को कुछ भी करने की इजाजत दे दी। वैसे भी बीआरएसटी के नाम पर ही सही, हजारों पेड़ कटवाना भी बहुत बड़ा पाप हमारे धर्मग्रंथों के अनुसार है। जनता के पैसे का दुरुपयोग, कभी पानी वाली बस, कभी सुनहरी गेट और कभी बीआरटीएस बहुत बड़ा अपराध था, जो सुखबीर बादल ने किया। वैसे पुत्र मोह ही नहीं, पुत्रवधु मोह में भी बादल ने वरिष्ठ अकाली नेताओं को महत्व न देकर अपने परिवार को ही दिया और उसे केंद्रीय मंत्री बनाकर दूसरे बड़े नेताओं को नीचा दिखाया। जनता प्रतीक्षा कर रही है कि सुखबीर बादल उन गलतियों को सार्वजनिक करेंगे जिनकी माफी मांग रहे हैं।

Posted By: Jagran