जागरण संवाददाता, अमृतसर

जगबीर ¨सह जग्गी के खिलाफ सदर थाने की पुलिस ने सोमवार की देर रात कांग्रेसी पार्षद अश्वनी कुमार उर्फ नवी भगत पर गोलियां चलाने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है। आरोप है कि गोलियां इलाके में सीसीवीटी कैमरा लगाने को लेकर चलाई गई हैं। पार्षद अश्वनी कुमार और कांग्रेसी नेता सु¨रदर ¨सह ने बताया कि कुछ लोग इलाके में गैर कानूनी काम कर रहे हैं। जिनका वह विरोध करते हैं। कैमरा के साथ अटैच डीवीआर को अपने घर लगाने के लिए जगबीर ¨सह जग्गी ने अपने साथियों के साथ मिलकर उन पर गोलियां चला दी।

उधर सदर थाने की पुलिस ने कांग्रेसी नेता सु¨रदर ¨सह के बयान पर जगबीर ¨सह उर्फ जग्गी, तुंगबाला निवासी परम उर्फ हनी, शाम, अजय, राणा और पांच अज्ञात लोगों के खिलाफ हवा में गोलियां चलाने और जान से मारने की धमकियां देने के आरोप में केस दर्ज कर लिया गया है। उधर, डीसीपी जगमोहन ¨सह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। गिरफ्तारी नहीं होने पर दिया धरना

पुलिस ने उक्त आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज तो कर लिया। लेकिन राजनीतिक दबाव के चलते किसी आरोपित को गिरफ्तार नहीं कर पाई। विरोध में कांग्रेसी पार्षद अश्वनी कुमार उर्फ नवी और उनके समर्थकों ने मंगलवार को काफी देर तक मजीठा रोड पर धरना लगाया। कांग्रेसी वर्करों ने इलाके में बढ़ रही गुंडागर्दी के विरोध में पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। मौके पर पहुंची सदर थाने की प्रभारी राज¨वदर कौर ने कई बार धरना उठाने का प्रयास किया। लेकिन आरोपितों की गिरफ्तारी कराने को लेकर धरना रात तक लगा रहा।

थाना प्रभारी को कैमरा की फुटेज में नहीं दिखीं गोलियां चलते

घटना के बाद सोमवार की रात थाना प्रभारी राज¨वदर कौर सरदार एवेन्यू में जांच करने पहुंची थी। सीसीटीवी फुटेज खंगाली गई। जिसमें आरोपित हवा में गोलियां चलाते दिखाई दे रहे थे। लेकिन थाना प्रभारी वीडियो में कही गोलियां चलने की फुटेज कहीं दिखाई नहीं दी। स्पष्ट है कि सदर थाने की पुलिस सियासी दबाव में काम कर रही है।

क्या है मामला

वार्ड नबंर 14 के कांग्रेसी पार्षद अश्वनी कुमार अपने इलाके में सुरक्षा के नजरिए से सीसीटीवी कैमरा लगवा रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके सीसीवीटी कैमरे लगने से इलाके में ही रहने वाले लोगों को कुछ आपत्ति है। वह नहीं चाहते कि कैमरे लगें। आरोप है कि कुछ लोग इलाके में गैर कानूनी काम करते हैं। जब इलाके के लोगों ने कैमरे लगाने की बात के लिए विरोध करने वालों को मना लिया तो आरोपितों का कहना था कि कैमरों के साथ अटैच टीवीआर उनके घर में लगाई जाए। जिसका इलाके के लोगों ने विरोध किया। इसके बाद उक्त आरोपितों ने इलाके में दहशत फैलाने के लिए गोलियां चलाई।

Posted By: Jagran