अमनदीप ¨सह, अमृतसर

नेशनल हाईवे अथॉरिटी आफ इंडिया की ओर से गोल्डन गेट- दोबुर्जी से लेकर नारायणगढ़ तक बनाया जा रहा बाईपास लोगों के लिए परेशान का सबब बना हुआ है। बाईपास में आठ फ्लाई ओवर बनाए जाने हैं। सबसे पहला गोल्डन गेट वाला फ्लाई ओवर लोगों की परेशानी का सबब बना हुआ है। 2016 में शुरू हुआ फ्लाई ओवर का काम पूरा कब होगा, यह तो भविष्य की गर्भ में है, लेकिन इसके चलते लोगों को ट्रैफिक जाम और बेहाल सड़क से जूझना पड़ रहा है।

गोल्डन गेट फ्लाई ओवर के आसपास हल्की सी बारिश होने पर रोड कीचड़ से भर जाती है। जीटी रोड से बाइपास की तरफ बनने वाले इस ब्रिज को अभी तक पूरा नहीं किया गया है। जीटी रोड होने से

रोजाना इस क्षेत्र से भारी वाहनों का आवागमन लगा रहता है। बाइपास के करीब 8 से 10 स्कूल पड़ते हैं। स्कूल की छुट्टी के समय बसों के निकलने से कई बस चालकों को भी इसकी वजह से परेशानी का सामना करना पड़ता है। कोट्स...दस महीने से कछुए की चाल की तरह चल रहा काम: परगट सिंह

लोगों की समस्या को देखते हुए जब उनसे बात की गई तो परगट ¨सह ने बताया कि वह कारोबारी है। रोजाना इस क्षेत्र से उनका आना जाना है। ब्रिज पर काम कर रही कंपनी पिछले दस महीनों से कछुए की चाल चल रही है। पूरी सड़क उखाड़ी गई है। जो हल्की सी बारिश होने पर दलदल का रूप धारण कर लेती है। क्या एक किलोमीटर से भी कम बनाने वाले ब्रिज में इतना समय लग जाता है।

लाइट न होने से रात को हादसों का भय रहता है: पन्ना कालिया

—पन्ना कालिया ने कहा कि रात के समय में कोई भी स्ट्रीट लाइट इस रोड पर नहीं है। कंपनी द्वारा जो ब्रिज का निमार्ण किया जा रहा है उनकी ओर से रोड पर पत्थर व मिट्टी के ढेर लगाए गए हैं जिससे लाइट ना होने से रात के समय हादसों का भय बना रहता है। ब्रिज की साइडों में कोई भी स्ट्रीट लाइटें नहीं लगी है। रात होते ही यह रास्ता अंधकार में बदल जाता है और प्रापर सर्विस लेन न होने से भी लोग ट्रैफिक जाम से जूझते हैं।

शहर के मेन गेट के पास ही सड़कों का बुरा हाल : राजन कुमार

राजन कुमार ने बताया कि शहर के मेन गेट को गोल्डन गेट बनाने से ही सुंदरता नहीं बढ़ जाती। जब शहर के मेन गेट के समीप ही सड़कों का बुरा हाल है, तो शहरवासी कैसे हालात में रहते होंगे। गेट एंट्री करने से पहले लोगों को ऐसी गंदगी भरे माहौल से निकलना पड़ता है। धूल, मिट्टी, ट्रैफिक जाम, कीचड़, स्ट्रीट लाइट वहां से निकलने वाले के सिवा कोई महसूस नहीं कर सकता। कई बार इस रोड पर लंबा जाम लग जाता है, कि लोग घंटों जाम में फस जाते हैं।

अटारी व एयरपोर्ट जाने वालों को मिलेगा लाभ

जीटी रोड से अमृतसर में एंट्री करने वाले लोग जो एयरपोर्ट, अटारी बार्डर, इंडिया गेट जाना चाहते हैं, भविष्य में उन्हें इस फ्लाई ओवर से लाभ मिलेगा। बाईपास पर लगने वाले ट्रैफिक जाम को देखते हुए ही इसे तैयार किया जा रहा है। यह ब्रिज ¨सगल लेन होगा और बाईपास चढ़ने के काम आएगा। इसके अलावा

अमृतसर से बाहर जीटी रोड जाने वाले लोगों के लिए ओवर ब्रिज के नीचे से दो रास्ते बनाए गए हैं। ताकि ट्रैफिक जाम पर लगाम लग सके। वहीं बाईपास से अमृतसर में एंट्री करने वालों के लिए तीन रास्ते छोड़े गए हैं।

Posted By: Jagran