मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, अमृतसर : अफ्रीका के कृषि वैज्ञानिकों का एक शिष्टमंडल ने शनिवार को कृषि विज्ञान केंद्र अमृतसर का दौरा किया। इस अवसर पर आइसीआर के मुख्य विज्ञान डॉ. आरके राणा भी उनके साथ थे। अमृतसर केंद्र के निर्देशक (ट्रेनिग) डॉ. बीएस ढिल्लों ने उनका स्वागत किया। डॉ. ढिल्लों ने शिष्टमंडल के सदस्यों को केवीके की विभिन्न गतिविधियों और खेती सुधार के लिए अलग-अलग तकनीकों बारे जानकारी दी।

डॉ. ढिल्लों सदस्यों को प्रदर्शनी प्लाटों वाली जगहों पर भी लेकर गए। केंद्र के विषय वस्तु माहिरों ने उन्हें धान की अलग-अलग किस्मों, घरेलू बगीची, पोलिहाउस और मुर्गी फार्म यूनिट बारे भी विस्तारपूर्वक जानकारी दी।

शिष्टमंडल के सदस्यों ने पराली की संभाल वाली मशीनरी और बारिश के पानी को जमीन के अंदर गहराई तक पहुंचाने वाले तकनीक में विशेष रुचि दिखाई।

डॉ. ढिल्लों ने बताया कि केवीके में सावन व भाद्रपद मास में किसानों के लिए में मेलों का आयोजन किया जाता है। जिसमें यूनिवर्सिटी की तरफ से उन्नत नई किस्म और मशीनरी की प्रदर्शनी लगा कर किसानों को पर्यावरण संबंधी जागरूक भी किया जाता है। उन्होंने किसानों और किसान महिलाओं को दिए जा रहे ट्रेनिग कोर्सों की भी जानकारी दी। इस अवसर पर डॉ. परविंदर सिंह ने शिष्टमंडल को मिट्टी और पानी टेस्टिंग प्रयोगशाला का दौरा भी करवाया। डॉ. सुखजिंदर जीत सिंह ने केवीके में आऐ मेहमानों का धन्यवाद किया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!