विपिन कुमार राणा, अमृतसर

यूथ कांग्रेस के चुनाव को लेकर बना सियासी माहौल आज चुनाव परिणाम आने के बाद शांत हो गया। शहरी प्रधानगी का ताज विधायक सुनील दत्ती के बेटे आदित्य दत्ती के सिर सज गया। चुनाव में अहम मुकाबला आदित्य दत्ती व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सोनी खेमे के राजीव छाबड़ा के बीच बना हुआ था। दो दिन चले मतदान में आदित्य ने जहां अपने गढ़ विधानसभा हलका उत्तरी से पहले दिन ही अच्छी खासे वोट डलवा बढ़त ले ली थी, वहीं बाकी हलकों से भी वोट लेकर बता दिया कि चाहे वह पहली बार चुनाव लड़ रहे थे, पर सियासी परिवार से होने की वजह से उन्होंने पूरी सूझबूझ से चुनाव लड़ा है।

चार और पांच दिसंबर को हुए मतदान में 22255 वोटों में से 4219 वोट पड़े थे, जिसमें से आदित्य को 2788 और छाबड़ा को 1431 वोट मिले हैं। आदित्य 1357 वोटों से यूथ कांग्रेस की शहरी प्रधानगी पर कब्जा जमाने में सफल रहे है। उपाध्यक्ष के पद पर पार्षद रजनी शर्मा ने जीत दर्ज की है। एसेंबली कमेटी की प्रधानगी लेने में विधानसभा हलका पश्चिम से रवि प्रकाश आशू 348 मत लेकर प्रधान बने। उनके प्रतिद्वंदी अजय कुमार को 287 वोट डले। उत्तरी से सावन जोशी ने 435 व राघव सरपाल को 413 वोट, केंद्रीय से गौरभ भल्ला ने 392 व सुरिदर पाल सिंह को 112, पूर्वी से सतनाम सिंह शाइना गिल ने 395 व रवि प्रकाश को 213, दक्षिण से सिमरजीत सिंह राजपूत ने 307 व राघव आहूजा को 97 वोट पड़े। आदित्य विधानसभा हलका उत्तरी और पूर्वी में भी अपना एसेंबली प्रधान बनवाने में सफल रहे हैं। केंद्रीय हलके से प्रधान सोनी खेमे के भल्ला बने हैं। पश्चिमी हलके से पीपीसीसी सदस्य अश्वनी पप्पू के खास रवि प्रकाश प्रधान बने, जबकि दक्षिण के प्रधान राजपूत नगर सुधार ट्रस्ट के चेयरमैन दिनेश बस्सी की पुरानी टीम का हिस्सा रहे हैं और वर्तमान में उन्हें मुख्यमंत्री के सियासी सलाहकार व हलका विधायक इंद्रबीर सिंह बुलारिया का आशीर्वाद प्राप्त है।

चुनाव में आमने-सामने था सोनी दत्ती खेमा

यूथ कांग्रेस के चुनाव में कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश सोनी ओर विधायक सुनील दत्ती खेमा आमने सामने था। सर्वसहमति से प्रधान चुनने को लेकर दो बार सभी जनप्रतिनिधियों के साथ बैठकें भी हुई, पर एकसुरता नहीं बन पाई। अपने-अपने खेमे के युवा नेताओं को जीत दिलवाने में दोनों ने अपनी पूरी सियासी फौज चुनाव में झोंकी हुई थी। चुनाव का टिविस्टंगि पहलू यह रहा कि आदित्य अपने हलके उत्तरी में पहले ही दिन 25 फीसद मतदान करवाने में सफल रहे, जबकि छाबड़ा अपने गढ़ केंद्रीय हलके में मात्र 16 फीसद ही वोट डलवा सके। पहले दिन के बिगड़े इस सियासी समीकरण की भरपाई दूसरे दिन भी नहीं हो पाई और जीत आदित्य के झोली में चली गई।

शहर में बढ़ी दत्ती परिवार की धाक

विधायक सुनील दत्ती अमृतसर के मेयर रहे हैं और वर्तमान में विधानसभा हलका उत्तरी से विधायक हैं। दत्ती परिवार की कर्मस्थली हमेशा ही विधानसभा हलका पश्चिमी रहा है। दत्ती विधानसभा हलका पूर्वी से विधायक का चुनाव लड़ा था। इसलिए इन तीनों हलकों में बनी हुई पकड़ का लाभ आदित्य को मिला। आदित्य की चाची ममत्ता दत्ता खादी बोर्ड की चेयरपर्सन व पंजाब महिला कांग्रेस की प्रधान भी है और चाचा समीर दत्ता सोनू पार्षद है। इस सारी टीम के प्रयासों से ही आदित्य जीते, जबकि छाबड़ा के सोनी परिवार का आशीर्वाद होने के बावजूद वह मतदान में ही पिछड़ गए।

दिलशेर बने अमृतसर देहाती के प्रधान

यूथ कांग्रेस की देहात की प्रधानगी के लिए मुख्यमंत्री के योजना सलाहकार तरसेम सिंह डीसी के बेटे दिलशेर सिंह प्रधान चुने गए है। उपाध्यक्ष सरवनसिंह निजामपुर अजनाला, गुरसेवक सिंह लोपोके और महासचिव सरपंच गुरप्रीत सिंह चविडा कला से चुने गए हैं। देहात में मतदान सर्वसहमति से मतदान करवाया गया। वरिष्ठजनों के हस्तक्षेप से पहले से ही तय हो गया था कि प्रधानगी के लिए दिलशेर को मतदान करवाया जाएगा, जबकि बाकी पदों के लिए भी मतदान निर्धारित कर दिया गया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!