जागरण संवाददाता, अमृतसर : अतिरिक्त डिप्टी कमिश्नर (जनरल) डॉ. हिमांशु अग्रवाल ने जिले में पटाखे बेचने के लाइसेंस जारी करने के लिए वीरवार शाम बचत भवन, रंजीत एवेन्यून में ड्रा निकाले। एडीसी ने एक-एक कर दस लोगों के ड्रा निकाले और उनके नामों का भी वहीं ऐलान किया। इस अवसर पर डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस जगमोहन सिंह सहित अन्य अधिकारी भी उपस्थित रहे।

ड्रा निकालने की प्रक्रिया बचत भवन में शाम करीब पांच बजे शुरू हुई। जिला प्रशासन ने मिले आवेदनों को 100/100 के पैकेटों में डाल रखा था। बचत भवन में उपस्थित आवेदनकर्ताओं की उपस्थिति में एक-एक करके प्रत्येक लिफाफे को खोला गया। उसके अंदर नामों वाली पर्चियों को ड्रा बाक्स में डाला गया। शाम करीब 5.10 बजे ड्रा निकालने की प्रक्रिया शुरू हुई, जो 5.15 बजे मुकम्मल हो गई।

एडीसी अग्रवाल ने बताया कि पटाखे बेचने के लिए ड्रा में नाम निकलना ही काफी नहीं। लाइसेंसधारी लोगों को इसके लिए जरूरी और अनिवार्य औपचारिक्ताएं मुकम्मल करने के बाद संबंधित विभाग को रिपोर्ट करनी होगी। इस अवसर पर एडीसीपी संदीप मलिक ने बताया कि पटाखे बेचने वाली जगह पर सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए गए हैं। सिर्फ लाइसेंसधारी लोगों को ही पटाखे बेचने की इजाजत दी जाएगी। इस मौके पर सहायक कमिश्नर जनरल अमनजोत कौर, एडीसीपी संदीप मलिक, डीसीपी (कानून-व्यवस्था) जगमोहन सिंह, एसीपी परविदर कौर, ईओ परमिदर कुमार सहित कई अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

ड्रा में इनको मिला लाइसेंस 1. अशोक अरोड़ा

2. प्रकाश कौर

3. लवजीत सिंह

4. गुरलीन कौर

5. गगनदीप सिंह

6. हरजिदर कौर

7. किरणदीप सिंह

8. गुरप्रीत कौर

9. अमरदीप सिंह

10. संजीव लूथरा

पटाखा के स्टालों पर रहेगी नजर

दीवाली और गुरुपर्व पर पटाखे और आतिशबाजी बेचने के लिए जिला प्रशासन से लाइसेंस लेकर कुछ लोग उसे किराए पर दे देते हैं। इस तरह की सूचनाओं के बीच डिप्टी कमिश्नर शिवदुलार सिंह ढिल्लों ने एक विग तैयार किया है, जो इन दिनों पटाखों के स्टालों पर पहुंच कर चेक करेगा। इसमें प्रशासन का मकसद यह देखना है कि जिसके नाम पर ड्रा निकला था, क्या वही पटाखे और आतिशबाजी बेचने का काम कर रहा है, या कोई और व्यक्ति या कारोबारी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!