जागरण संवाददाता, अमृतसर

डीसी कार्यालय और तहसीलों में बुधवार को दूसरे दिन भी हड़ताल रही। इस दौरान कोई काम बंद रहा। तहसीलों व डीसी कार्यालय में बहुत कम लोग ही काम के सिलसिले में पहुंचे और कर्मचारियों की गेट रैलियां देखने के बाद बिना काम करवाए ही लौट गए। जिला प्रधान अरविदर संधू के नेतृत्व में निकाली गई गेट रैली के दौरान कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

डीसी दफ्तर इंप्लाइज यूनियन के जिला प्रधान अरविदर संधू ने कहा कि पंजाब सरकार ने अपने कर्मचारियों के साथ वादाखिलाफी की है। राज्य सरकार ने अपने कर्मचारियों की मांगों को स्वीकार करने के भरोसे के बाद भी कोई नोटीफिकेशन जारी नहीं किया। मजबूर होकर उन्हें एक बार फिर से पंजाब सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलना पड़ा है। बुधवार को उन्होंने डीसी आफिस में गेट रैली निकाली तो तहसीलों में भी इसी तरह की गेट रैलियां की गई।

संधू ने कहा कि डीसी आफिस कर्मियों की हड़ताल से डीसी दफ्तर, एसडीएम दफ्तर, तहसीलों और सब तहसीलों में काम पूरी तरह से ठप है। उनका मकसद जनता को परेशान करना नहीं बल्कि अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करना उनकी मजबूरी बन गया। उन्होंने कहा कि 20 जून को वे अपने साथियों के साथ पंजाब सरकार की अर्थी फूंकेंगे और प्रदर्शन करेंगे। जबकि 21 जून को शहर में मोटरसाइकिल रैली निकाल कर अपनी बात आम जनता तक पहुंचाएंगे। इस मौके पर दीपक कुमार, साहिब कुमार, अमनदीप आदि भी उपस्थित थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran