जागरण संवादाता, अमृतसर : बार-बार वैक्सीन संकट की वजह से टीकाकरण की प्रक्रिया बाधित हो रही है। 29 जुलाई को जिले में 18 हजार डोज पहुंची थी। यह दो दिनों में ही लग गई। शनिवार को जिले में 6602 लोगों को टीका लगा। खास बात यह है कि जिले के सिर्फ 43 टीकाकरण केंद्रों में ही टीका लग पाया। स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित सिविल अस्पताल को सिविल सर्जन कार्यालय की ओर से डोज नहीं भेजी गई। जिले के प्रमुख अस्पताल सिविल में वैक्सीन न पहुंचने की वजह से लोगों को निराशा हाथ लगी। टीकाकरण केंद्र के बाहर खड़े गार्ड से लोग बार बार सवाल कर रहे थे कि वैक्सीन कब आएगी, लेकिन उसके पास भी जवाब न था। वैक्सीन की आपूर्ति समयबद्ध न होने का ही नतीजा है कि जिले में छह महीने में 729963 लोगों को ही टीका लग पाया है। जुलाई महीने में तो टीकाकरण की रफ्तार बेहद कम रही है।

इधर, टीकाकरण के साथ—साथ जिले में स्वास्थ्य सेवाएं भी सिसक रही हैं। पे-कमीशन का विरोध कर रहे डाक्टरों ने ओपीडी सेवाएं ठप कर दी हैं। सरकारी अस्पतालों में अब मरीज कम आ रहे हैं, क्योंकि डाक्टर नहीं मिलते।

Edited By: Jagran