राज्य ब्यूरो, कोलकाता। West Bengal CM Mamata Banerjee. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को कहा है कि चक्रवात 'बुलबुल' से बंगाल में हुई भारी तबाही के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आश्वासन के बावजूद केंद्र सरकार से अब तक वित्तीय मदद के रूप में एक रुपया भी नहीं मिला है। विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि चक्रवात के बाद केंद्र की एक टीम प्रभावित इलाकों का सर्वेक्षण करने आई थी। राज्य सरकार ने बुलबुल से हुए नुकसान को लेकर रिपोर्ट भी उन्हें सौंपी थी, लेकिन इतने दिन बीत जाने के बावजूद बंगाल सरकार को अब तक केंद्र से कोई वित्तीय मदद नहीं मिली।

तीन जिलों में बुलबुल से हुए नुकसान की समीक्षा के बाद राज्य सरकार की ओर से केंद्रीय टीम को 23 हजार करोड़ रुपये के अनुमानित नुकसान की रिपोर्ट दी गई थी। मुख्यमंत्री इस दिन विस में बंगाल के तीन तटवर्ती जिलों उत्तर व दक्षिण 24 परगना एवं पूर्व मेदिनीपुर में बुलबुल से हुई तबाही पर प्रश्नों का जवाब दे रही थीं।

ममता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के ट्वीट का भी जिक्र किया, जिसमें उन्होंने बंगाल को आर्थिक मदद मुहैया कराने की बात कही थी। मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि पीएम व गृहमंत्री के ट्वीट के बावजूद अब तक एक पैसा नहीं मिला। चक्रवात से तीनों जिलों में 14 लाख हेक्टेयर से अधिक कृषि भूमि पर फसलें नष्ट हो गईं और 15 लोगों की जानें चली गईं। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों की मदद के लिए राज्य के वित्त विभाग से 12,00 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की गई है। राज्य सरकार उन किसानों को भी पांच-पांच हजार रुपये देगी, चक्रवात में जिनकी पान की फसल नष्ट हो गई।

गौरतलब है कि बंगाल की खाड़ी से उठे चक्रवात ने पिछले महीने बंगाल के तटीय जिलों में भारी तबाही मचाई थी। तबाही के बाद प्रधानमंत्री व गृहमंत्री ने मुख्यमंत्री से फोन पर बातचीत कर हरसंभव मदद का आश्वासन दिया था। 

यह भी पढ़ेंः ममता ने देखी बुलबुल की विनाशलीला, कहा-राहत कार्य में नहीं होनी चाहिए राजनीति

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस