कोलकाता, जागरण संवाददाता। West Bengal : राज्यपाल बनने के बाद से धनखड़ और बनर्जी एवं उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के बीच कई मामलों पर टकराव चल रहा है। बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्यपाल जगदीप धनखड़ द्वारा दो विधेयकों पर चर्चा के लिए शुक्रवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में 'व्यस्तताओं' के कारण शामिल नहीं हुई।

राजभवन ने गुरुवार को एक बयान में कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय ने राज्यपाल के सचिवालय को सूचित किया कि शुक्रवार को पहले से तय कार्यक्रमों के कारण बनर्जी के लिए बैठक में शामिल होना संभव नहीं होगा। राज्यपाल बनने के बाद से धनखड़ और बनर्जी एवं उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस के बीच कई मामलों पर टकराव चल रहा है। राज्यपाल ने विधानसभा में पारित उन दो विधेयकों पर चर्चा के लिए बैठक बुलाई थी, जिन पर उनकी (राज्यपाल की) मंजूरी का इंतजार है।

बयान में कहा गया है कि बार बार प्रयासों के बावजूद' पश्चिम बंगाल (लिंचिंग से रोकथाम) विधेयक, 2019 और 'अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति पश्चिम बंगाल राज्य आयोग विधेयक' के लंबित होने के संबंध में 'राज्य सरकार और राज्य विधानसभा से कोई जानकारी नहीं मिलने के कारण राज्यपाल ने यह बैठक बुलाई थी।'

इसमें कहा गया है कि राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को इस मामले को प्राथमिकता देने और इन मामलों पर चर्चा की खातिर बैठक के लिए जल्द से जल्द समय निकालने की अपील की है। बयान में कहा गया है कि पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान और वाम मोर्चा के विधायक दल के नेता सुजान चक्रवर्ती ने बैठक 21 जनवरी को किए जाने का अनुरोध किया है।

इसमें कहा गया है कि बैठक तय समय पर उक्त तिथि को होगी। बयान में कहा गया है कि राजभवन को यह भी बताया गया है कि गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के नेता रोहित शर्मा इस समय बीमार हैं। 

बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष का विवादित बयान, CAA का विरोध करने वालों को बताया शैतान और कीड़ा

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस