कोलकाता, जागरण संवाददाता। :West Bengal assembly passes Hindi University Bill मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बंगाल में बड़ी संख्या में रह रहे हिंदी भाषियों को ध्यान में रखते हुए अधिक से अधिक हिंदी माध्यम के स्कूल-कालेज खोलने पर जोर दिया है। गुरुवार को विधानसभा में 'द हिंदी यूनीवर्सिटी वेस्ट बंगाल बिल 2019' पारित होने के मौके पर सदन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में निर्मित हो रहा हिंदी विश्वविद्यालय नई राह दिखाएगा। यह विवि सदभाव और एकता की मिसाल बनेगा।

उन्होंने आगे कहा-'बंगाल में बड़ी संख्या में हिंदी भाषी रहते हैं। हम झाड़ग्राम में भी एक हिंदी विश्वविद्यालय स्थापित करने जा रहे हैं। हमने सभी जिलों में विश्वविद्यालय खोला है और विभिन्न भाषाओं को मान्यता दी है। सभी भाषाओं को महत्व दिया जाना चाहिए। अधिक से अधिक हिंदी माध्यम के स्कूल-कालेज की स्थापना करना होगा। गौरतलब है कि हिंदी विश्वविद्यालय हावड़ा जिले के दासनगर में स्थापित होगा, जो हिंदी के विभिन्न विभागों एवं हिंदी साहित्य के पूर्ण चर्चा केंद्र के तौर पर भी काम करेगा। इसके अलावा सरकार की योजना स्वामी विवेकानंद के नाम पर एक अन्य विश्वविद्यालय के निर्माण की भी है।

ममता ने शिक्षा विभाग से अनुरोध किया कि विभाग हिंदी विवि के लिए अधिग्रहित की गई जमीन पर निर्माण कार्य जल्द शुरू करे। हिंदी विश्वविद्यालय का नाम अभी तय नहीं किया गया है लेकिन सभी समुदायों के साथ बातचीत कर इसे जल्द तय कर लिया जाएगा। महात्मा गांधी की 150 जयंती को देखते हुए गांधी विश्वविद्यालय का निर्माण कार्य भी शुरू हो गया है।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि उनकी सरकार ने राज्य में कई विश्वविद्यालयों का निर्माण किया है जबकि कई विवि निर्माण का किया जाना अभी बाकी है। अब तक 31 विश्वविद्यालयों का निर्माण किया है। राज्य सरकार ने 50 कॉलेज और 7,000 स्कूल, इंजीनियरिंग कॉलेज और मेडिकल कॉलेज की स्थापना की है। 

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप