लखनऊ, जेएनएन। हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या के विरोध में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने सोमवार को सभी जिलों में डीएम के जरिये मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपा। अपने ज्ञापन में विहिप ने कहा है कि जिस तरह कट्टरवादी जिहादियों ने गोली मारकर और गला रेतकर कमलेश तिवारी की हत्या की वह हिंदू समाज के अंदर भय का माहौल बनाने का प्रयास है। इस घटना में शामिल आरोपितों की तत्काल गिरफ्तारी और उन पर रासुका लगाये जाने की मांग की गई है।

विहिप मुख्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक सभी जिलों में सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया कि कमलेश तिवारी की हत्या से पूरा समाज आहत है। उत्तर प्रदेश में आइएसआइएस अपने पैर पसार चुका है और इस घटना में आतंकवादियों का सीधा हाथ है। कमलेश की सुरक्षा में हुई चूक में जिम्मेदार अफसरों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई, परिजनों को आर्थिक सहायता, सरकारी नौकरी और सुरक्षा मुहैया कराने पर विहिप नेताओं ने जोर दिया है। कमलेश की हत्या के बाद कार्यकर्ताओं के साथ लखनऊ पुलिस के दुर्व्यवहार को भी विहिप ने गंभीरता से लेते हुए कार्रवाई की मांग की है। अपने ज्ञापन में सभी हिंदू संगठनों के प्रमुख कार्यकर्ताओं को सुरक्षा मुहैया कराने और शस्त्र लाइसेंस जारी करने की भी मांग की गई है।

बता दें कि हिंदू महासभा के प्रदेश अध्यक्ष व हिंदू समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी की शुक्रवार को लखनऊ में उनके खुर्शेदबाग स्थित आवास में दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। वह अयोध्या मामले को हिंदू महासभा तरफ से देख रहे थे। हत्यारों ने कमलेश तिवारी के बायें जबड़े पर गोली मारने के बाद गला रेत दिया। गोली पीठ में जाकर फंस गई। इसके बाद धारदार हथियार से गला रेत दिया और श्वास नली कटने से मौत हुई। उनके शरीर के ऊपरी हिस्से में 13 घाव चाकू के वार से हैं। हत्यारे वारदात के बाद गणेशगंज की ओर पैदल ही भाग निकले। कमलेश लंबे समय से अपनी सुरक्षा बढ़ाने की गुहार लगा रहे थे और यह वारदात तब हुई, जब उनके आवास के बाहरी हिस्से में एक पुलिसकर्मी मौजूद था।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस