लखनऊ, जेएनएन। UP President Donald Trump Agra Visit :विश्व के सबसे शक्तिशाली राष्ट्र में शुमार अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ताजनगरी के दौरे को बेहद यादगार बनाने के प्रयाग चरम पर हैं। 24 फरवरी को अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ताजमहल देखने आगरा आ रहे हैं। अहमदाबाद से शाम को आगरा पहुंचेंगे।

डोनाल्ड और उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप की यह पहली आधिकारिक भारत यात्रा है। अहमदाबाद में ट्रंप का पहले साबरमती आश्रम जाने और फिर इंदिरा ब्रिज के रास्ते हाल में बने मोटेरा क्रिकेट स्टेडियम तक जाने का कार्यक्रम है। इसके बाद यह लोग आगरा का रुख करेंगे। 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा से पहले आगरा में यमुना को स्वच्छ अविरल बनाने के लिए गंगाजल को छोड़ा गया है। उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता धर्मेंद्र सिंह फोगाट ने बताया कि अमेरिकी राष्ट्रपति (डोनाल्ड ट्रंप) के आगरा आगमन को ध्यान में रखते हुए यमुना नदी की पर्यावरणीय स्थिति में सुधार के लिए मांट नहर के रास्ते 500 क्यूसेक गंगाजल मथुरा में छोड़ा गया है। फोगाट ने कहा कि विभाग की कोशिश है कि गंगाजल की यह मात्रा यमुना में 24 फरवरी तक निरंतर बनी रहे। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण विभाग के सहायक अभियंता डॉक्टर अरविन्द कुमार ने बताया, यदि आगरा में यमुना नदी के प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए 500 क्यूसेक गंगाजल छोड़ा गया है तो वह निश्चित रूप से प्रभाव डालेगा। मथुरा के साथ-साथ आगरा में भी यमुना नदी में घुले ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ेगी तथा बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमाण्ड व केमिकल ऑक्सीजन डिमाण्ड की मात्रा में कमी आएगी. इतना होने पर यमुना का पानी पीने योग्य भले ही न हो पाये, परंतु उसके दुष्प्रभाव व बदबू में तो कमी होने की आशा कर सकते हैं।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आगरा में स्वागत में किसी तरह की कमी न रह जाये इसके लिए योगी आदित्यनाथ सरकार हर स्तर पर तैयारी में जुटी है। ताजमहल के पीछे बहने वाली यमुना नदी साफ दिखे, इसके लिए भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में ही गंगा तथा यमुना का संगम कराया गया है। जिससे आगरा में यमुना के जलस्तर में इजाफा होगा। आगरा में डोनाल्ड ट्रंप के आगमन से पहले सड़कें, फुटपाथ सब चमकाया जा रहा है। आगरा में बहने वाली यमुना का पानी साफ दिखे इसके लिये बड़ी कवायद की जा रही है। इसके लिए यमुना नदी में हरिद्वार से 500 क्यूसेक गंगा जल छोड़ा गया है। अब गंगा तथा यमुना का संगम प्रयागराज में न होकर मथुरा में होगा। यानी से हरिद्वार से छोड़ा गया 500 क्यूसेक गंगा जल बुलंदशहर से होकर मथुरा में यमुना नदी में मिलेगा जो चार दिन बाद आगरा पहुंचेगा।

आगरा में ट्रंप अपनी पत्नी मैलेनिया ट्रंप के साथ ताज निहारेंगे। यहां कुछ वक्त बिताएंगे। इस दौरान यमुना किनारे बने ताज को देखने के साथ यमुना नदी किनारे का भी जायजा ले सकते हैं। वहां से यमुना को निहारते हुए उसकी गंदगी पर नजर न पड़े और यमुना कल-कल करती हुई दिखाई दे इसके प्रयास हो रहे हैं। इस दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति को यमुना का जल साफ नजर आए, इसके लिए यमुना में गंगा जल छोड़ा गया है।

हरिद्वार से बुलंदशहर आ रही कोट एक्सकेप के माध्यम से 500 क्यूसेक गंगा जल छोड़ा गया है। सोमवार को बुलंदशहर से खुर्जा के निकट हैड से यह जल छोड़ा गया। मथुरा में 500 क्यूसेक गंगाजल 20 फरवरी की रात पहुंचेगा, जो 21 फरवरी की दोपहर आगरा में नजर आएगा। गंगाजल की यह मात्रा यमुना में निरंतर 24 फरवरी तक बनी रहे इसके लिये पूरी व्यवस्था की गयी है। आगरा में यमुना नदी को और स्वच्छ बनाने के लिए अतिरिक्त गंगा जल की मांग की जा रही है। पांच सौ के अलावा 450 क्यूसेक जल की और मांग की गई है। ताज के पीछे यमुना की तलहटी को टीम लगाकर तो स्वच्छ बनाया ही गया है, लेकिन जलस्तर को बढ़ाने के प्रयास जारी हैं। अतिरिक्त पानी की व्यवस्था की जा रही है। सोमवार को 950 क्यूसेक पानी तीन स्थानों से छोड़ा गया है। इसमें ङ्क्षहडन बैराज से 500 क्यूसेक, हरनाल व कोट स्केप से 150 व 300 क्यूसेक पानी सम्मिलित है। पानी शुक्रवार तक आगरा पहुंच जाएगा। गोकुल बैराज से 354 क्यूसेक से अधिक पानी प्रतिदिन छोड़ा ही जाता है। यहां से भी 1800 क्यूसेक पानी छोड़ा गया है। यमुना के जलस्तर में अतिरिक्त पानी से किनारे ढकने और यमुना को निर्मल दिखाने का प्रयास है।

निगरानी कर रहे हैं सीएम योगी आदित्यनाथ

डोनाल्ड ट्रंप का विशेष विमान 24 फरवरी को पहले अहमदाबाद में लैंड करेगा और उसी दिन शाम में अमेरिकी राष्ट्रपति अहमदाबाद से आगरा पहुंचेंगे। ताजनगरी में स्वागत की जबरदस्त तैयारी चल रही है। चप्पे-चप्पे को सजाया जा रहा है। इंच-इंच की निगरानी रखी जा रही है। इसका मुआयना खुद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कर रहे हैं। ट्रंप के आगरा दौरे को देखते हुए आगरा पुलिस और खुफिया एजेंसियां हाई अलर्ट पर हैं। आगरा पुलिस की अमेरिकी राष्ट्रपति की एडवांस टीम के साथ मीटिंग में सुरक्षा तैयारियों की समीक्षा हो चुकी है।

मडपैक ट्रीटमेंट से चमकेंगी ताजमहल की कब्र

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताजमहल के दीदार के लिए आगरा आ रहे हैं। इस दौरान ट्रंप को ताजमहल में एक भी दाग नजर नहीं आएगा। इसके लिए खास ढंग से साफ-सफाई शुरू कर दी गई है। अमेरिकी राष्ट्रपति की यात्रा को देखते हुए मुगल शहंशाह शाहजहां और मुमताज की कब्रों की पहली बार मडपैक ट्रीटमेंट के जरिए सफाई की जा रही है, ताकि उस पर एक भी दाग न दिखे। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने दोनों कब्रों पर मुल्तानी मिट्टी का लेप लगाकर गंदगी और दाग मिटाने का काम शुरू किया है।

ट्रंप के दौरे से पहले 22 फरवरी तक ताज में मडपैक और केमिकल ट्रीटमेंट के सभी काम पूरे कर लिए जाएंगे। ताजमहल बनने के बाद पिछले 368 वर्ष में यह पहला मौका है जब एएसआई ने कब्रों पर मुल्तानी मिट्टी लगाकर मडपैक ट्रीटमेंट से सफाई कार्य शुरू किया है। इन कब्रों के ऊपर लगे फानूस को भी उतारकर केमिकल ट्रीटमेंट कर चमकाया जाएगा। फानूस लॉर्ड कर्जन ने 1908 में भेंट किया था। मिस्र के काहिरा में बनी मस्जिद में देखकर लैंप डिजाइन करा कर इसे भेंट किया गया था। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा के लिए रॉयल गेट के रेड सैंड स्टोन प्लेटफॉर्म और रॉयल गेट के अंदर के पत्थरों की सफाई भी की जा रही है। रॉयल गेट से लेकर संगमरमरी गुंबद तक फव्वारों के दोनों ओर लगे पाथवे के पत्थरों का केमिकल ट्रीटमेंट शुरू किया गया है जिससे कई वर्षों से इकट्ठा हुए दाग धब्बे मिट सकें।

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस