राज्य ब्यूरो, मुंबई। कांग्रेस-राकांपा-शिवसेना गठबंधन के नए मुख्यमंत्री के रूप में अपने नाम पर मुहर लगने के बाद अभिभूत उद्धव ठाकरे ने कहा कि जिनके साथ हम 30 साल रहे, वे हम पर भरोसा नहीं कर सके, और जिनसे हम हमेशा लड़ते आए उन्होंने हमारे नेतृत्व में भरोसा जताया है।

शरद पवार और सोनिया गांधी का आभार जताया

उद्धव ने इस भरोसे के लिए राकांपा अध्यक्ष शरद पवार एवं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का आभार मानते हुए कहा कि इस सरकार में मुझे मेरी-तेरी नहीं करना है। यह हम सबकी अपनी सरकार है। आम जनता की सरकार है। आज ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने वाले देवेंद्र फड़नवीस के वक्तव्य का जवाब देते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि फड़नवीस आज भी कह रहे थे कि ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पद के लिए कोई बात नहीं हुई। जबकि यह बात मेरे निवास मातोश्री के अंदर हुई थी। जो व्यक्ति मातोश्री में आकर झूठ बोलता हो, मैं कदापि उसका साथ देनेवाला नहीं हूँ। उद्धव ने राकांपा अध्यक्ष शरद पवार के अनुभव और आशीर्वाद से राज्य को अच्छी सरकार देने का भरोसा जताया। प्रधानमंत्री की ओर इशारा करते हुए उद्धव ने कहा कि वह जल्दी ही ‘मोठा भाई’ (बड़े भाई) से मिलने दिल्ली भी जाएंगे।

सुप्रीम कोर्ट का भी आभार जताया

इससे पहले बीकेसी स्थित होटल ट्राइडेंट में आयोजित इस बैठक में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए आज के फैसले के प्रति उनका आभार जताया गया और कांग्रेस-राकांपा-शिवसेना को मिलाकर बनी महाविकास आघाड़ी (महाविकास गठबंधन) की घोषणा भी की गई। बैठक समाप्त होने के बाद उद्धव सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए राजभवन रवाना हो गए। माना जा रहा था कि इस बैठक में शामिल होने के लिए आज ही उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे चुके शरद पवार के भतीजे अजीत पवार भी शामिल होंगे। लेकिन उन्होंने इस बैठक से दूरी बनाए रखी। 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस