आगरा, जेएनएन। विश्व के सबसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को आगरा दौरे में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का पालन करना होगा। 24 फरवरी को वह अपनी फेवरेट कार के काफिला के साथ उनके ताजमहल में प्रवेश नहीं कर सकेंगे। उनकी कार का काफिला ताजमहल के करीब पांच सौ मीटर पहले ही रोक दिया जाएगा। इसके बाद वह गोल्फ कार्ट में सवार होकर ताजमहल प्रांगण में प्रवेश कर सकेंगे।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कार ताजमहल में प्रवेश नहीं करेगी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की की कार लिमोसिन 'द बीस्ट' को ताजमहल से 500 मीटर पहले रोका जाएगा। ऐसा सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुपालन में होगा। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद से प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर वहां पर प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

आगरा के जिला मजिस्ट्रेट प्रभु एन सिंह ने कहा कि एडवांस टीम को सूचित किया गया है कि राष्ट्रपति ट्रंप केवल एक विशेष गोल्फ कार्ट या फिर बैटरी बस पर ताजमहल में सवारी कर सकते हैं। इस बस ने कई वीवीआईपी को कई ऐतिहासिक स्थलों तक पहुँचाया है। जब डोनाल्ड ट्रम्प आगरा आएंगे, तो उन्हें बैटरी बस में यात्रा करने की आवश्यकता होगी क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश से ताजमहल के 500 मीटर के दायरे में चलने वाले प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों को स्पष्ट रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है।

जब तक सुप्रीम कोर्ट ट्रम्प लिमोसिन द बीस्ट के लिए अस्थायी अनुमति जारी नहीं करता, तब तक एडीए की विशेष बस के अलावा कोई विकल्प उपलब्ध नहीं है। ताजनगरी में उच्चस्तरीय बैठक के बाद एडवांस टीम को इसकी जानकारी दे दी गई है। आगरा में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन कोई नहीं करना चाहता है। सुप्रीम कोर्ट ने ताजमहल को वायु प्रदूषण से बचाने के लिए इसके आसपास डीजल-पेट्रोल से संचालित वाहनों का प्रवेश वर्जित कर दिया है। इसी कारण ट्रंप के आगमन पर उन्हें 500 मीटर पहले गोल्फ कार्ट में ही सवार होकर ताजमहल में प्रवेश करना होगा।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर वर्ष 2001 में ताजमहल के 500 मीटर में वाहनों का प्रवेश वर्जित कर दिया गया था। केवल उन्हीं वाहनों को प्रवेश दिया जाता है। जो ताजमहल के 500 मीटर के क्षेत्र में रहते हैं। उसके अलावा इमरजेंसी सेवा वाले विभागों को भी यहां अधिकार पत्र जारी किया जाता है। ताजमहल के अंदर तो किसी भी वाहन का प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित है। 2015 में जब अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा को आना था। उस दौरान भी उनकी कार के अंदर जाने को लेकर उच्च स्तर पर मंथन हुआ था, लेकिन कार की जाने की मनाही हो गई। ओबामा की यात्रा के लिए एक ही बस तैयार की गई थी, लेकिन आगरा की उनकी यात्रा को अंतिम क्षणों में रद कर दिया गया था।

ट्रंप की टीम ने भी लगाया जोर

डोनाल्ड ट्रंप की एडवांस टीम का सबसे ज्यादा जोर इसी बात पर था कि उनकी कार अंदर तक जाए, लेकिन अधिकारी सुप्रीम कोर्ट के आदेश के विपरीत कोई भी निर्णय नहीं लेना चाहते हैं। उन्होंने एडवांस टीम से साफ मना कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के प्रतिबंध लगाने से पहले वर्ष 2000 तक फोरकोर्ट तक वाहन जाते थे। लोग पश्चिमी गेट से प्रवेश करी सीधे पूर्वी गेट की ओर निकलते थे। यही नहीं यहां जैन समाज का मेला भी लगा करता था। इसके साथ ही यहां पश्चिमी गेट के अंदर दोनों और मीना बाजार लगा करती थी। यहां से सैलानी खरीददारी भी किया करते थे। कोर्ट के निर्देश के बाद में प्रतिबंध लगा और ताजमहल सुरक्षा की कमान सीआईएफ के हाथों में आ गई। उसके बाद सारी गतिविधियां पूरी तरह से बंद हो गईं।

ट्रंप के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल आनंदी बेन भी

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ताजमहल में भ्रमण के दौरान उनके साथ गवर्नर आनंदीबेन पटेल तथा सीएम योगी आदित्यनाथ भी रहेंगे। इनकी फ्लीट में द बीस्ट सहित 35 से 40 गाडिय़ां रहेंगी। अमेरिकी सुरक्षा अफसरों की 22 से 25 गाडिय़ां कार्गो प्लेन से लाई जाएंगी। ट्रंप ताज के अंदर भी अमेरिकी सुरक्षा के घेरे में ही जाएंगे। गुरुवार को आईजी ए सतीश गणेश, मंडलायुक्त अनिल कुमार, डीएम प्रभु एन सिंह और एसएसपी बबलू कुमार ने खेरिया से ताजमहल तक के 15 किलोमीटर लंबे रूट का निरीक्षण किया। इसके बाद ताज में एएसआई के अफसरों के साथ बैठक की। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस