लखनऊ, जेएनएन। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने उत्तर प्रदेश की जनता को अपराध, कोरोना महामारी और बाढ़ के संकट में डुबो दिया है। भाजपा सरकार केवल गाइडलाइन जारी करती है और सो जाती है। प्रदेश में कानून व्यवस्था को नियंत्रण रखने में भाजपा सरकार विफल है। अपराधियों पर उसका कोई अंकुश नहीं रह गया है। प्रदेश में लगभग एक लाख से ज्यादा कोरोना मरीज हो गए हैं। प्रदेश के विभिन्न जनपदों में बाढ़ का प्रकोप गहराता जा रहा है, तटबंध टूट रहे हैं, गांव जलमग्न हो रहे हैं, अधिकारी उधर झांकने भी नहीं जा रहे हैं।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को जारी बयान में कहा कि कोरोना संकट का विस्तार दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश में एक लाख से ज्यादा केस मिले हैं, जिनमें 1,778 मौतें हो चुकी हैं। राजधानी लखनऊ में 22 मौतें हो चुकी हैं। वहीं, आजमगढ़ की सगड़ी तहसील बुरी तरह बाढ़ग्रस्त है। एक तरफ छोटी सरयू और दूसरी तरफ घाघरा नदी में बाढ़ के कारण सैकड़ों गांव प्रभावित हैं। सोमवार सुबह दो बजे टेकनपुर गांव के पास तटबंध टूट गया। दर्जनों गांवों में पानी के बहाव से फसलें जलमग्न हो गई। करीब 20 हजार से ज्यादा की आबादी प्रभावित हुई है। 1998 के बाद इस बार बड़ी बाढ़ आई है।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश अब अराजक जंगलराज में तब्दील हो गया है। राजधानी लखनऊ में चोरियां आम बात हो गई है। बाजार खाला क्षेत्र में मासूम से अश्लीलता और रेप की कोशिश हुई। कैसरबाग के एक होटल में मैनेजर ने फांसी लगा ली। इस्माइलगंज में किशोर का शव पेड़ से लटका मिला। नरही में पति ने पत्नी को फोन कर फांसी लगा ली। उन्होंने कहा कि प्रशासन बाढ़ से निपटने और अपराध नियंत्रण के मामलों में निष्क्रिय नजर आता है। कोराना से बचाव में स्वास्थ्य सेवाएं नाकामयाब साबित हो चुकी हैं। भाजपा सरकार ने अपने हाथपांव ढीले कर दिए हैं और राज्य को राम भरोसे छोड़ दिया है। जनता त्रस्त है। लोगों की उम्मीदें भी अब भाजपा सरकार से खत्म हो चुकी हैं।

Posted By: Umesh Tiwari

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस