जयपुर, एएनआइ। Sachin Pilot: सचिन पायलट ने उपमुख्यमंत्री पद के सवाल पर कहा कि मैंने पार्टी से कोई मांग नहीं की है। मैं विधायक और कांग्रेसी कार्यकर्ता हूं, जो भी पार्टी मुझसे करने को कहेगी, मैं करूंगा। इस मौके पर सचिन पायलट ने कहा कि जो कहा गया मुझे दुख है उस बात का, जिस प्रकार के शब्दों का इस्तमाल किया गया। मैंने उस समय भी प्रतिक्रिया नहीं दी थी, आज भी नहीं दूंगा। जिसने जो कहा भूल जाना चाहिए। दुख जरूर होता है, लेकिन राजनीति में संवाद का एक लेवल बनाए रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैंने अपने साथी विधायकों के साथ आलाकमान के समक्ष अपनी बात रखी। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी,राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने हमारी बात सुनी। आलाकमन ने हमारे द्वारा उठाए गए सभी मुद्दों का हल निकालने की बात कही है।

उन्होंने कहा कि मेरे लिए कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग किया गया, जिनके कारण मुझे ठेस लगी। मैंने कड़वा घूंट पिया है। राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत द्वारा उन्हें निकम्मा और नाकारा कहे जाने पर कहा कि मैं अपने बयान से आहत अवश्य हुआ, लेकिन मैं उनका सम्मान करता हूं। मैंने मेरे परिवार से संस्कार सीखे हैं, मैंने कभी किसी के लिए गलत भाषा का इस्तेमाल नहीं किया। पायलट का कहना है कि जिन कार्यकर्ताओं की मेहनत से हम सरकार में आने उन्हें सम्मान मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैंने कभी कोई पद नहीं मांगा, लेकिन सरकार से जुड़े कुछ मुद्दों को लेकर मन में वेदना थी जो आलाकमान तक पहुंचाई, मेरा मानना है कि हम लोग उनके प्रति जवाबदेह हैं जिन्होंने हमें वोट दिया। इस बीच, दिल्ली से लेकर राजस्थान तक समर्थकों ने पायलट का स्वागत भी किया है। 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस