पटना [जेएनएन]। जनता दल यूनाइटेड (JDU) में दो दिनों से महासचिव (General Secretary) पवन वर्मा (Pawan Verma) तथा सुप्रीमो व मुख्‍यमंत्री (CM) नीतीश कुमार (Nitish Kumar) एक-दूसरे के खिलाफ बयान दे रहे हैं। पवन वर्मा से नाराज नीतीश कुमार ने लगातार दूसरे दिन बड़ा बयान देते हुए कहा है पवन वर्मा के लिख पत्र को वे कोई तवज्‍जो ही नहीं देते।

पवन ने कहा: पत्र के जवाब तक कहीं नहीं जाने वाले

पवन वर्मा ने बीते दिनों एक पत्र लिखकर नीतीश कुमार से दिल्‍ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) से गठबंधन पर आपत्ति दर्ज की थी तथा इसपर पुनर्चिचार का आग्रह किया था। उन्‍होंने कई आरोप भी लगाए थे। इसके पहले वे नागरिकता संशोधन कानून (CAA) व राष्‍ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (NRC) के खिलाफ पार्टी लाइन के खिलाफ बयानबाजी भी कर रहे थे। गुरुवार को नीतीश कुमार ने इसपर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा था कि उन्‍हें जहां जाना हो, जाएं। जवाब में पवन वर्मा ने कहा कि जबतक उनके पत्र का जवाब नहीं मिलता, वे कहीं नहीं जाने वाले।

नीतीश कुमार का जवाब: पत्र को नहीं देते तवज्‍जो

फिर शुक्रवार को नीतीश कुमार ने कहा है कि वे पवन वर्मा के पत्र को कोई तवज्‍जो नहीं देते। नीतीश कुमार ने कहा कि पत्र लिखने ये कौन सा तरीका है कि पहले पत्र को ई मेल करते हैं, फिर मीडिया में जारी कर देते हैं। यह ठीक नहीं है।

पार्टी लाइन के खिलाफ करते रहे बयानबाजी

विदित हो कि पवन वर्मा के अलावा पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) भी सीएए और एनआरसी के मुद्दों पर लगातार पार्टी लाइन के खिलाफ बयान दे रहे हैं। नीतीश कुमार ने पहले इन बातों पर ध्‍यान नहीं दिया। लेकिन जब पवन वर्मा ने उन्‍हें पत्र लिखकर कई आरोप लगाए तथा उसे मीडिया में भी जारी कर दिया। इसी दौरान प्रशांत किशोर ने सीधे बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह (Amit Shah) को सीएए व एनआरसी लागू करने की चुनौती देता बयान दे डाला।

जेडीयू में हाशिए पर गए पवन-प्रशांत

बताया जाता है कि पवन वर्मा के पत्र तथा प्रशांत किशोर के अमित शाह को घेरते बयान से स्थितियां बिगड़ती देख नीतीश कुमार ने कड़ा रूख अख्तियार किया। फिर विवादों से परहेज करने वाले नीतीश कुमार दो दिनों से अपनी नाराजगी सार्वजनिक तौर पर जाहिर कर रहे हैं। नाराजगी भरे ये बयान अगर कोई संकेत हैं तो साफ है कि पार्टी में पवन वर्मा और प्रशांत किशोर अब हाशिए पर जा चुके हैं।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस