प्रयागराज, जेएनएन। राम मंदिर के निर्माण की रूपरेखा इस माघ मेला में तय हो जाएगी। इसके लिए तैयारी चल रही है। माघ मेला में लगे विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के शिविर में 20 जनवरी को केंद्रीय मार्गदर्शन मंडल की बैठक होगी। उसमें राम मंदिर के निर्माण की तारीख और ट्रस्ट से जुड़े मामले पर फैसला होगा। उस बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित देश भर के संत महात्मा शामिल हो सकते हैं। मंथन के बाद अगले दिन इसकी घोषणा होगी।

माघ मेला क्षेत्र में विहिप के शिविर में अयोध्या के राम मंदिर का मॉडल रखा गया है। इस मॉडल का अनावरण रविवार को विहिप के केंद्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि जिस मॉडल को 1989 में कुंभ के दौरान प्रयाग में रखा गया था, उसी मॉडल का यह स्वरूप है। इसी मॉडल के आधार पर भव्य मंदिर का निर्माण होना है। उसे परिवर्तित नहीं किया जाएगा, क्योंकि उसके पत्थर 20 वर्ष से तराशे जा रहे हैं। यहां पर रखे गए मॉडल का निर्माण सीतापुर की स्वयंसेवी संस्थाओं ने तैयार किया है। मेले तक यहां आने वाले श्रद्धालु इसका दीदार कर सकेंगे।

चंपत राय ने कहा कि इसी मेले में 20 जनवरी को केंद्रीय मार्ग दर्शक मंडल की बैठक होगी। बैठक की अध्यक्षता महंत नृत्य गोपाल दास करेंगे। उसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, जून अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि, साध्वी ऋतंभरा, बाबा रामदेव सहित देश भर के संत महात्मा शामिल होंगे। बैठक में ही राम मंदिर निर्माण की तारीख तय की जाएगी। साथ ही मंदिर के ट्रस्ट की रूपरेखा भी तय होगी कि उसमें किसे शामिल किया जाएगा। 21 जनवरी को संत सम्मेलन का भी आयोजन किया जाएगा। उसमें मंदिर को लेकर हुए निर्णय का फैसला सार्वजनिक किया जाएगा।

चैत्र प्रतिपदा से हनुमान जयंती तक गांव-गांव होंगे राम महोत्सव

माघ मेला में विश्व हिंदू परिषद काशी प्रांत की दो दिवसीय बैठक में आगे की रूपरेखा तय की गई। रविवार को बैठक के समापन अवसर पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए विहिप के केंद्रीय य उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहा संगठन की स्थापना जिन उद्देश्यों से हुई, उसकी प्राप्ति के लिए हम निरंतर आगे बढ़ रहे हैं। हमारे प्रयास सफल हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि अयोध्या में राम मंदिर के लिए 490 वर्ष से चल रही लड़ाई का समापन हुआ है। अब राम मंदिर बन सकेगा और हिंदुओं को गर्व की अनुभूति होगी। बोले कि इस राष्ट्र की आध्यात्मिक सत्ता को पूरी दुनिया में मान्यता मिल रही है। हमारी कामना सबके सुख की है, इसी के लिए हम निरंतर प्रयासरत हैं। संगठन के नेटवर्क के बल पर जिन गांव में राम शिला का पूजन हुआ था, उन गांव में हम चैत्र वर्ष प्रतिपदा से हनुमान जयंती तक बड़े-बड़े राम महोत्सव के कार्यक्रम करेंगे। सभी जिलों, ब्लॉक गांव और शहरों में यह कार्यक्रम होगा।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस