अमेठी, जेएनएन। उत्तर प्रदेश में राजनीति के प्रमुख गढ़ के रूप में विख्यात होने वाले अमेठी में एक बार फिर से पोस्टर वार शुरू हो गया है। यहां पर पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के लापता होने से पोस्टर्स लगते थे, लेकिन अब यहां से भाजपा की सांसद तथा केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के लापता होने के पोस्टर्स लगे हैं। इसके साथ ही उनसे कई सवाल भी पूछे गए हैं। पोस्टर्स को लेकर कांग्रेस के विधान परिषद सदस्य दीपक सिंह और राष्ट्रीय महिला कांग्रेस ने ट्वीट भी किया है।

लापता सांसद से सवाल के पोस्टर सोमवार दोपहर कुछ स्थानों पर चस्पा दिखाई पड़े, जिसमें केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी के चित्र के साथ ही कुछ सवाल पूछे गए थे। स्मृति के गायब होने के पोस्टर लगने के बाद राष्ट्रीय महिला कांग्रेस ने ट्वीट कर लिखा कि अमेठी ढूंढ़ रहा है अपनी लापता सांसद स्मृति ईरानी को, जिसके जवाब में खुद ट्वीच कर स्मृति ने मोर्चा संभाला और एक के बाद एक छह ट्वीट कर अपनी बात सार्वजनिक की। 

ट्वीट के जवाब में स्मृति ने लिखा कि आठ महीने में दस बार 14 दिन का हिसाब है मेरे पास। लेकिन, सोनियाजी इस दौरान कितनी बार अपने क्षेत्र में गईं। इसके साथ ही उन्होंने दूसरे ट्वीट में लॉकडाउन के दौरान लोगों की मदद के लिए किए गए अपने कार्यों को गिनाया तो एक अन्य ट्वीट में लिखा कि ब्लाक शाहगढ़ में खंभे पर कागज चिपकाया तो कम से कम अपना नाम तो लिख देते नीचे।

पोस्टर्स को लेकर कांग्रेस के विधान परिषद सदस्य दीपक ने भी ट्वीट किया और स्मृति ईरानी के अमेठी नहीं आने पर सवाल उठाया है। जिले के शाहगढ़ ब्लाक में बहोरखा गांव के करीब गौरीगंज-मुसाफिरखाना मार्ग पर कई स्थानों पर सांसद से सवाल वाले पोस्टर्स चस्पा होने के बाद शाम होते-होते सियासत काफी गर्म हो गई। पोस्टर्स में लिखा है कि कोरोना महामारी के दर्द से अमेठी की जनता परेशान है। हम यह नहीं कहते की आप गायब हैं। लेकिन, सांसद होने के नाते आज इस विपरीत समय में अमेठी की मासूम जनता अपनी जरूरतों के लिए आपको ढूंढ़ रही है। पोस्टर पर किसी का नाम पता नहीं है। भाजपा जिलाध्यक्ष दुर्गेश त्रिपाठी ने कहा कि सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए कोई कुछ भी कर सकता है। 

कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच में अमेठी में पोस्टर वॉर शुरू हो गया है। कोरोना वायरस का प्रसार अमेठी में तेजी से हो रहा है। यहां अब तक 146 केस मिल चुके हैं। इस बीच अमेठी में सांसद व केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ लोगों का आक्रोश भी फूटने लगा है। यहां पर लापता सांसद स्मृति ईरानी से सवाल पूछने वाले पर्चे तमाम स्थानों पर चस्पा किये गए हैं। जिनमें लिखा गया है कि क्या अब आप अमेठी में सिर्फ कंधा ही देने आएंगी। पर्चे पर किसी का नाम पता नहीं है।

अमेठी में पोस्टर चिपकाने की बात आम नहीं है। यहां बड़े नेताओं के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का सिलसिला जारी रहता है। ऐसे में लोकसभा क्षेत्र में एक बार फिर अमेठी में पोस्टर वार शुरू हो गया है। सोमवार को लोकसभा क्षेत्र अमेठी में सांसद व केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के खिलाफ 'लापता सांसद से सवाल' नाम के पोस्टर लगाए गए।

पोस्टर में लिखा, अमेठी से सांसद बनने के बाद (साल भर में दो दिन) महज कुछ घंटों में अपनी उपस्थित दर्ज कराने वाली सांसद स्मृति इरानी जी आज करोना महामारी के दर्द से अमेठी की समस्त जनता भयभीत और त्रस्त है हम यह नहीं कहते कि आप गायब हैं।

पोस्टर में यह भी लिखा गया है कि हमने आपको ट्विटर के माध्यम से अंताक्षरी खेलते हुए देखा है। हमने आपके माध्यम से एकाध व्यक्ति को लंच देते हुए देखा है लेकिन अमेठी के सांसद होने के नाते से आज विपरीत समय में अमेठी की मासूम जनता अपनी आवश्यकता व परेशानियों के लिए आपको ढूंढ रही है। विगत कई महीनों की परेशानियो के बीच में यू ही अमेठी की जनता को निराश्रित छोड़ देना यह दर्शाता है कि शायद अमेठी आप के लिए महज टूर हब है।

क्या आप अमेठी में सिर्फ कंधा देने आएंगी?

इन पोस्टर्स में सवाल है कि क्या आप अब अमेठी किसी को सिर्फ कंधा देने ही आएंगी। 2019 में मई में बरौलिया गांव के पूर्व प्रधान व भाजपा नेता सुरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वारदात के वक्त सांसद स्मृति ईरानी दिल्ली में थी। हत्या की खबर पाकर अमेठी पहुंची थीं और अर्थी को कंधा भी दिया था। तब लोगों ने स्मृति ईरानी के इस कदम को अमेठी की राजनीति में नई परंपरा करार दिया था। पोस्टर शाहगढ़ ब्लाक बहोरखा प्राथमिक पाठशाला के पास और वही जामो तथा अतरौली में आस पास के खंभों में चस्पा किया गया है। चिपकाए गये है, पोस्टर में किसी का नाम भी नही लिखा है। 

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस