मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र के पालघर में हुई मॉब लिंचिंग की घटना पर राज्‍य के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि सीआईडी के एक विशेष आईजी स्तर के अधिकारी इस मामले की जांच कर रहे हैं। मैं यह उल्लेख करना चाहूंगा कि  पुलिस ने अपराध के 8 घंटे के भीतर 101 लोगों को गिरफ्तार किया। हम आज व्हाट्सएप के जरिए आरोपियों के नाम जारी कर रहे हैं, उस सूची में कोई मुस्लिम नहीं है।

 गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि इस घटना एक वीडियो सामने आया है जिसमें एक आवाज़ सुनाई दी 'ओये बस', लोगों ने इसे ऑनलाइन प्रसारित किया और कुछ ने इसे 'शोएब बास' कहा। सभी राज्‍य इस समय कोरोना महामारी से लड़ रहे हैं और ऐसे समय में पालघर की इस घटना को कछ लोगों ने सांप्रदायिक कोण लाने की कोशिश की है। 

पालघर में क्‍या हुआ 16 अप्रैल की रात 

16 अप्रैल की रात का पालघर में सैकड़ों लोगों की भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। इस घटना में सुशील गिरि महाराज (30) एवं चिकने महाराज कल्पवृक्ष गिरि (70) जूना अखाड़ा से संबंधित थे, साथ में इनका कार चालक भी इस घटना का शिकार हो गया। ये लोग कार से सूरत किसी की अंत्‍येष्टि में शामिल होने जा रहे थे कि तभी पालघर में 100 से अधिक लोगों की भीड़ इन तीनों पर टूट पड़ी और इतना पीटा की तीनों की मौत हो गयी। मौके पर मौजूद पुलिस ने बताया की लोगों की संख्‍या इतनी अधिक थी की हम इन्‍हें बचाने में असफल रहे। मामले की छानबीन से पता चला की गांव में बच्‍चे चोर गिरोह की अफवाह फैली हुई है। जिसके चलते ग्रामीणों ने बच्‍चा चोर गिरोह से संबंधित होने के शक में इन पर हमला किया। 

LIVE Coronavirus Maharashtra: महाराष्‍ट्र में कोरोना का कहर, 24 घंटे में 553 नये मामले 

 Lockdown Violators: वधावन परिवार की क्‍वारंटाइन अवधि पूरी, अब ईडी और सीबीआइ करेगी पूछताछ

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस